न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आइआइटी धनबाद में 160 व एनआइटी जमशेदपुर में 66 सीटें लड़कियां के लिए आरक्षित

263

Rahul Guru

mi banner add

Ranchi: इंजीनियरिंग में लड़कियों की संख्या बढ़ाने की कवायद 2014 से ही चल रही है. देश के सभी आइआइटी व एनआइटी में इसी साल लड़कियों के लिए सीटें आरक्षित की गयी थीं. यह कड़ी साल दर साल बढ़ती गयी. इस साल आइआइटी व एनआइटी में लड़कियों के लिए 17 फीसदी सीटें आरक्षित की गयी हैं. झारखंड के आइआइटी धनबाद व एनआइटी जमशेदपुर में भी लड़कियों के लिए सीटें आरक्षित हैं. आइआइटी धनबाद में जहां 160 सीटें लड़कियों के लिए हैं, वहीं एनआइटी जमशेदपुर में 66 सीटें हैं.

इसे भी पढ़ें- राहुल गांधी का राफेल राग जारी, राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद कहा, मेरा रुख नहीं बदला, राफेल डील में चोरी हुई

2018 में आइआइटी में 1852 लड़कियों ने लिया था नामांकन

आइआइटी में लड़कियों के नामांकन के आंकड़े 2014 से बढ़ते गये हैं. आइआइटी की ओर से जारी आंकड़े बताते कि 2014 में देश के सभी आइआइटी में 8.8 फीसदी लड़कियों ने नामांकन लिया था. 2015 में 9 फीसदी और 2016 में यह 8 प्रतिशत था. 2016 में जेइइ एडवांस्ड में 4517 लड़कियां सफल हुई थीं, जिनमें से 847 लड़कियों ने नामांकन लिया था. वहीं 2017 में 7259 लड़कियां सफल हुई थीं, उनमें से 995 ने आइआइटी में नामांकन लिया था. 2018 में 4179 लड़कियां सफल हुई थीं, जिनमें से 1852 लड़कियों ने आइआइटी में नामांकन लिया. आइआइटी में लड़कियों के नामांकन का प्रतिशत 2018 में 14 फीसदी था. लड़कियों की उपस्थिति आइआइटी में बढ़ सके इसके लिए इस साल कुल सीटों में 17 फीसदी सीटें केवल लड़कियों के लिए आरक्षित की गयी हैं. जानकारी के मुताबिक 2020 में 20 फीसदी सीटें लड़कियों के आरक्षित होंगी.

इसे भी पढ़ें – 6000 के आउटडेटेड मोबाइल को 9000 में खरीद कर आंगनबाड़ी सेविकाओं को बांटने की समाज कल्याण विभाग की तैयारी

आइआइटी धनबाद में लड़कियों के लिए 160 सीटें सुरक्षित

आइआइटी में लड़कियों के लिए आरक्षित 17 फीसदी सीटों के कारण आइआइटी धनबाद में 160 सीटें आरक्षित हैं. यहां के टॉप पांच ब्रांच में सर्वाधिक सीटें कंप्यूटर साइंस विभाग में लड़कियों के लिए हैं. यहां 21 सीटें लड़कियों के लिए आरक्षित हैं. वहीं इलेक्ट्रिकल ब्रांच में 18, इलेक्ट्रिकल एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग में 18, सिविल में 11 सीटें आरक्षित हैं.

इसे भी पढ़ें – धनबादः 8 साल के बच्चे ने की आत्महत्या, पब्जी गेम खेलने का शक

ब्रांच के अनुसार आरक्षित सीटें

  • केमिकल इंजीनियरिंग : 08
  • सिविल इंजीनियरिंग : 11
  • कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग : 21
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग : 18
  • इलेक्ट्रोनिक एंड कम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग : 18
  • पेट्रोलियम इंजीनियरिंग : 10
  • अप्लायड जियोलॉजी : 03
  • इंजीनियरिंग फिजिक्स : 05
  • इनवायरमेंटल साइंस : 08
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग : 19
  • मिनरल इंजीनियरिंग : 06
  • माइनिंग इंजीनियरिंग : 12

माइनिंग एंड मशीनरी इंजीनियरिंग : 09

मैथेमेटिक्स एंड कंप्यूटिंग : 08

अप्लायड जियोफिजिक्स : 04

इसे भी पढ़ें – पेंशन भुगतान में झारखंड में SC के आदेश की हो रही अवहेलना- भोजन का अधिकार अभियान

एनआइटी जमशेदपुर में 66 सीटें हैं आरक्षित

एनआइटी जमशेदपुर में सिविल, कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रोनिक एंड कम्यूनिकेशन, मैकेनिकल, मेटेलर्जिकल एंड मेटेरियल इंजीनियरिंग व प्रोडक्शन एंड इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करायी जाती है. इसमें सर्वाधिक सीटें इलेक्ट्रिकल, इसीइ व मैकेनिकल ब्रांच में हैं.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में इंजीनियरिंग, पोलिटेक्निक व मैनेजमेंट संस्थानों के लिए संबद्धता आसान नहीं

ब्रांच के अनुसार आरक्षित सीटें

  • सिविल इंजीनियरिंग : 10
  • कंप्यूटर साइंस : 10
  • इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग : 11
  • इलेक्ट्रॉनिक एंड कम्यूनिकेशन : 11
  • मैकेनिकल इंजीनियरिंग : 11
  • मेटेलर्जिकल एंड मेटेरियल इंजीनियरिंग : 08
  • प्रोडक्शन एंड इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग : 05

इसे भी पढ़ें – राज्य प्रशासनिक सेवा के संयुक्त सचिव स्तर के 18 अधिकारियों की पोस्टिंग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: