न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

16 लोगों पर आचार संहिता मामले में एफआइआर, लोगों में गुस्‍सा

188

Ranchi : 17 मार्च को हिंदपीढ़ी थाना में 16 लोगों पर आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगते हुए एफआइआर किया गया. जब कि लोगों का कहना है कि 15 मार्च को की गयी बैठक में ना ही किसी राजनीतिक दल और ना ही धार्मिक मुददों पर बात हुई थी. बैठक की अध्यक्षता कर रहे बशीर अहमद का कहना है कि बैठक में मुस्लिमों को लोकसभा चुनाव में सीट देने पर चर्चा हो रही थी. किसी भी तरह से इस में कम्युनिटी पर चर्चा नहीं हुई थी.

अखबार में छपी खबर को देख कर 16 लोगों पर एफआइआर किया गया.जबकि अखबार में कहीं भी संप्रादायिक बातें नही लिखीं थी. ऐसे में आचार संंहिता का उल्लंघन का आरोप लगते हुए एफआइआर करना उचित नहीं है. सकुलर पार्टियों के दबाव में आकर ऐसी कार्रवाई की गयी है. जबकि गोड्डा से अगर बीजेपी भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट देती है तो हम समर्थन देंगे. ये किसी भी पार्टी से संबंधित नहीं था.

इसे भी पढ़ें :  बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ का लोकसभा क्षेत्र चाईबासा कुपोषण के मामले में देश भर में सबसे…

महागाठबंधंन के दबाव में किया गया एफआइआर

16 लोगों में से एक आजम अहमद ने कहा कि राजनीतिक पार्टियों के दबाव में आकर ऐसा किया गया है. जिस आदिवासी भाई ने ऐसा किया है, उसको यह समझना चाहिए कि ऐसे लोगों के कारण ही राज्य में आदिवासी समस्याएं खत्म नहीं हो रही है. हमलोग झारखंड आंदोलन के सिपाही हैं, किसी से डरने वाले नहीं.

इसे भी पढ़ें : रांची : जमीन कारोबारी की हत्या से पहले पुलिस ने कुख्यात वसीम गोजा को किया गिरफ्तार, पूछताछ जारी

सामाजिक कार्यकर्ताओं की छवि धूमिल की जा रही है

Related Posts

भाजपा शासनकाल में एक भी उद्योग नहीं लगा, नौकरी के लिए दर दर भटक रहे हैं युवा : अरुप चटर्जी

चिरकुंडा स्थित यंग स्टार क्लब परिसर में रविवार को अलग मासस और युवा मोर्चा का मिलन समारोह हुआ.

SMILE

नदिम खान ने कहा कि इस तरह के निर्णयों से पता चलता है कि सामाजिक कार्यकर्ताओं की छवि धूमिल की जा रही है. संप्रादायिक सौहार्द के लिए जाने जाने वाले लोगों पर इस तरह आरोप लगाने से मानसिकता का पता चलता है. जबकि उक्त बैठक में सिर्फ नवजवान थे.

संवैधानिक अधिकारों पर प्रहार

बब्बर ने कहा कि सामान्य बैठक में एफआइआर करना संवैधानिक अधिकारों पर प्रहार है. भारत जैसे देश में हर व्यक्ति को बोलने और अपने विचार व्यक्त करने का अधिकार है. जबकि संविधान में हर अधिकार लोगों को दिया गया है. फिर भी हम डरने वाले नही. आगे भी लोगों को जागरूक किया जायेगा.

लोगों को आगे भी जागरुक किया जाता रहेगा

उक्त बैठक में शामिल इमरान ने जानकारी दी कि बैठक में चुनाव में मुस्लिमों की स्तिथि पर चर्चा की जा रही थी. लेकिन उल्‍टे सामाजिक कार्यकर्ताओं ने ही कार्रवाई कर दी..ऐसे में हम भी डरने वाले नहीं, आगे भी लोगों को जागरुक किया जाता रहेगा. घर-घर जा कर लोगों को बतायेंग कि लोगों को ठगा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : रांची के हिंदपीढ़ी में दिनदहाड़े गोलीबारी, सोहेब अली नाम के युवक की हत्या

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: