Crime NewsDeogharJharkhand

देवघर के विभिन्न थाना क्षेत्रों से 16 साइबर अपराधी गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपियों के पास से 26 मोबाइल फोन, 35 सिमकार्ड 3 एटीएम कार्ड व 11 पासबुक बरामद

Deoghar: साइबर अपराधियों के विरुद्ध देवघर पुलिस द्वारा की जा रही कार्रवाई लगातार जारी है. इसके तहत साइबर थाना की पुलिस ने गुरुवार की रात जिले के मारगोमुंडा थाना क्षेत्र के खिजुरियाटांड, मधुपुर थाना क्षेत्र के न्यू कॉलोनी, पथरड्डा ओपी क्षेत्र के घघरजोर, सारठ थाना क्षेत्र के कुरुमटांड, चकनवाडीह, पालाजोरी थाना क्षेत्र के डुमरिया और सारवां थाना क्षेत्र के बनवरिया दासडीह गांव से एक नाबालिग किशोर सहित 16 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है.

शुक्रवार को इस बाबत जानकारी देते हुए एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने बताया कि इन साइबर अपराधियों के पास से 26 मोबाइल फोन, 35 सिम कार्ड, 3 एटीएम कार्ड व 11 पासबुक बरामद किया गया है.

advt

गिरफ्तार अपराधियों में 27 वर्षीय कोटिल मंडल, 21 वर्षीय अरविंद मंडल, 29 वर्षीय राजू मंडल, 22 वर्षीय कपिल दास, 48 वर्षीय रंजीत मंडल, 21 वर्षीय मोहम्मद आलम, 23 वर्षीय परवेज आलम, 19 वर्षीय राजू दास, 19 वर्षीय मिथुन दास, 20 वर्षीय कैलाश महरा, 23 वर्षीय उत्तम दास, 22 वर्षीय सुबोध दास, 21 वर्षीय राजीव दास, 21 वर्षीय राजेन्द्र दास और 19 वर्षीय रजत राय का नाम शामिल है. इसके अलावा एक नावबलिग को भी साइबर ठगी के आरोप में निरुद्ध किया गया है.

इसे भी पढ़ें :मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दिया निर्देश- सीबीएसई और आइसीएसई बोर्ड से पहले जैक का रिजल्ट प्रकाशित करें

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार रंजीत मंडल, कपिल दास और नाबालिग युवक का आपराधिक इतिहास है और इन पर सारठ, सारवां थाना में पहले से मामला दर्ज है.

इसके साथ ही एसपी द्वारा यह जानकारी दी गयी कि गिरफ्तार साइबर अपराधियों द्वारा साइबर ठगी की घटना को अंजाम देने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जाते थे.

इसे भी पढ़ें :नक्सलियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन में भारी मात्रा में तीर बरामद, सुरक्षाबलों की उड़ी नींद, जानिये क्यों…

साइबर अपराधी फर्जी बैंक अधिकारी बनकर लोगों को फोन करते हैं और उन्हें बताते हैं कि उनका एटीएम बंद होने वाला है. इसके अलावा केवाइसी अपडेट कराने के नाम पर भी ठगी की जाती है.

इन अपराधियों द्वारा साइबर ठगी के लिए गूगल पे का भी सहारा लिया जाता था. साथ ही साइबर अपराधियों द्वारा वर्चुअल पेमेंट एड्रेस के माध्यम से भी ठगी की जाती थी.

उन्होंने बताया कि छापेमारी दल में साइबर थाना प्रभारी सुधीर पोद्दार, सदर अंचल के पुनि कलीम अंसारी, पुनि संजय कुमार वर्मन, संगीता कुमारी, एसआई रुपेश कुमार, मनोज मूर्मू, मो अफरोज, संगीता रजवार, हरिश कुमार सिंह, रमेश मुंडा, पुष्पेश्वर दास, अमित कुमार, आतिश कुमार, अघनू मुंडा, अवधेश बाड़ा व देवीपुर के थाना प्रभारी प्रेम प्रदीप कुमार व सशस्त्र बल के जवान शामिल थे.

इसे भी पढ़ें :MNREGA में पकड़ाया ‘रॉयल्टी घोटाला’, सरकार को लगाया करोड़ों का चूना

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: