न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कैलास मानसरोवर जा रहे 1500 तीर्थयात्री भारी बारिश में फंसे, 104 रेस्क्यू किये गये

376

NewDelhi : नेपाल के रास्ते कैलास मानसरोवर जा रहे लगभग डेढ़ हजार तीर्थयात्री भारी बारिश के कारण फंस गये हैं. खबरों के अनुसार भारतीय श्रद्धालुओं को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है. खबर दी गयी है कि हिलसा में बारिश और खराब मौसम की चपेट में आये 104 कैलास मानसरोवर तीर्थयात्रियों को सिमीकोट लाया गया है. श्रद्धालुओं को बचाने के लिए नेपालगंज से सिमिकोट के लिए सात फ्लाइट उड़ान भर रही हैं. नेपाल में भारतीय दूतावास के आंकड़ों के अनुसार, 525 तीर्थयात्री सिमिकोट, 550 तीर्थयात्री हिलसा और तिब्बत की तरफ करीब 500 श्रद्धालु फंसे हुए हैं. आंध्र प्रदेश के ईस्ट गोदावरी जिले के श्रद्धालु जी सुब्बाराव की नेपाल के हिलसा में मौत हो गयी. उनके शव को नेपालगंज लाया गया है. यहां पोस्टमॉर्टम के बाद उनके पार्थिव शरीर को गृहनगर में भेजा जायेगा. जानकारी दी गयी है कि सिमिकोट इलाके में फंसे करीब 525 श्रद्धालुओं को बचाने के लिए दो कमर्शियल फ्लाइट वहां उतारी गयी है. हिलसा में फंसे सैकड़ों श्रद्धालुओं के लिए बचाव अभियान जारी है.

नेपाल सरकार से सेना के हेलिकॉप्टरों का मदद लेने का आग्रह किया गया है

इस संबंध में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करते हुए कहा है कि फंसे हुए श्रद्धालुओं को सुरक्षित निकालने के लिए नेपाल सरकार से सेना के हेलिकॉप्टरों का मदद लेने का आग्रह किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी श्रद्धालुओं के लिए चलाये जा रहे रेस्क्यू ऑपरेशन को लेकर विदेश मंत्रालय और अन्य शीर्ष अधिकारियों के संपर्क बनाये हुए हैं. मोदी  ने अधिकारियों से भारतीयों को सुरक्षित निकालने के लिए हरसंभव मदद पहुंचाने को कहा है. नेपाल में भारतीय दूतावास श्रद्धालुओं को लगातार मदद मुहैया करा रहा है.  भारतीय दूतावास लगातार नेपालगंज, सिमिकोट और हिलसा में हालात पर नजर बनाये हुए है. मंगलवार सुबह यहां मौसम काफी खराब हो गया और उड़ानों के संचालन में भी मुश्किल आ रही है. नेपाल में भारतीय दूतावास ने यात्रियों और उनके परिजनों के लिए अलग-अलग भाषाओं में हॉटलाइन नंबर भी जारी किये हैं.

सिमिकोट में बुजुर्ग तीर्थयात्रियों के लिए हेल्थ चेकअप की व्यवस्था की गयी है

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि नेपाल में भारतीय दूतावास ने नेपालगंज और सिमिकोट में अपने प्रतिनिधि तैनात किये हैं. वे तीर्थयात्रियों से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं. यात्रियों को भोजन और रहने की जगह उपलब्ध कराई जा रही है. साथ ही सिमिकोट में बुजुर्ग तीर्थयात्रियों के लिए हेल्थ चेकअप की व्यवस्था की गयी है.  कैलास मानसरोवर यात्रा के रास्ते में कर्नाटक के लगभग 290 यात्री भी फंस गये हैं. राज्य आपात अभियान केंद्र, राजस्व विभागने एक ट्वीट में कहा कि कैलास मानसरोवर यात्रा पर गये कर्नाटक के लगभग 290 तीर्थयात्री हिमालयी क्षेत्र में भारी बारिश की वजह से  सिमिकोट में फंस गये हैं अधिकारियों ने बाद में कहा कि वे लोग सुरक्षित हैं और उनके साथ हम लगातार संपर्क में हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: