न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

राज्य में एक साल में भूख से 15 लोगों की मौत, कब जागेगी सरकार ?

201

एक साल पहले सिमडेगा की 11-वर्षीय संतोषी कुमारी अपनी मां से भात-भात कहते-कहते भूखमरी की शिकार हो गयी थी. आधार से लिंक न होने के कारण उसके परिवार का राशन कार्ड रद्द कर दिया गया था. पिछले एक वर्ष में झारखंड में कम-से-कम 15 लोगों की भूख से मौत हो गयी है. इनमें से 6 आदिवासी, 4 दलित और 5 पिछड़े समुदाय के थे. ये सभी मौतें पेंशन या जन वितरण प्रणाली से राशन न मिलने के कारण हुई हैं.

mi banner add

इसे भी पढ़ेंःबात निकली है तो दूर तलक जायेगी…

इनमें से 5 परिवारों का राशन कार्ड नहीं बना था एवं 5 परिवार आधार-आधारित बायोमेट्रिक सत्यापन व्यवस्था की समस्यों के कारण अपने राशन से वंचित थे. साथ ही, 6 व्यक्ति अपने सामाजिक सुरक्षा पेंशन से वंचित थे. 10 मौतों में साफ तौर पर आधार-संबंधित विफलताओं का भूख में योगदान था.

भूख से मौतें केवल झारखंड तक ही सीमित नहीं है. पिछले चार सालों में देश भर में भूख से 56 मौतें हुई हैं. भुखमरी और कुपोषण की समस्या केवल इन परिवारों तक सीमित नहीं है. झारखंड की बड़ी प्रतिशत जनसंख्या को पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता. 40 प्रतिशत से भी अधिक पांच वर्ष से कम आयु के बच्चे कुपोषित हैं.

झारखंड सरकार ने लगातार भूख से हो रही मौतों को रोकने के लिए किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की है. न रद्द किए गए राशन कार्ड पुनः बनाए गए हैं, न जन वितरण प्रणाली से आधार-आधारित बायोमेट्रिक सत्यापन की व्यवस्था बंद की गयी, न ही छूटे परिवारों का राशन कार्ड बनाया गया और न ही जन कल्याणकारी योजनाओं से आधार का जुड़ाव ख़त्म किया गया.

इसे भी पढ़ेंःउपभोक्ता तभी तक सुरक्षित है, जब तक नियोक्ता का व्यापार सुरक्षित है

झारखंड में भुखमरी और कुपोषण को समाप्त करने के लिए भोजन का अधिकार अभियान निम्न मांगें करती है:
• सभी सामाजिक सुरक्षा योजनाओं में आधार का जुड़ाव समाप्त हो व बायोमेट्रिक सत्यापन की अनिवार्यता समाप्त हो.
• आधार से नहीं लिंक होने के कारण जिन परिवारों के राशन कार्ड रद्द हुए हैं व जिन्हें पेंशन सूची से हटाया गया है, उनकी सूची कार्ड/पेंशन रद्द होने के कारण के साथ तुरंत सार्वजनिक की जाए एवं उनका कार्ड/पेंशन तुरंत वापिस जारी किया जाए.
• जन वितरण प्रणाली को ग्रामीण क्षेत्र में सार्वभौमिक किया जाए एवं सभी आदिम जनजाति परिवारों व एकल महिलाओं को अन्त्योदय कार्ड दिया जाए.
• राशन वितरण से निजी डीलरों को हटाया जाए और ग्राम पंचायत/महिला संगठनों को राशन वितरण की ज़िम्मेवारी दी जाए.
• राज्य में पोषण की स्थिति में सुधार लाने के लिए जन वितरण प्रणाली में सस्ते दामों पर दाल व खाद्य तेल भी दिया जाए.
• प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की राशि 5,000 रुपये से बढ़ाकर राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून में दिए गए अधिकार के अनुरूप 6,000 रुपये हो और सहयोग केवल पहले बच्चे तक ही सीमित न हो.

इसे भी पढ़ेंःप्रधानमंत्री के दावे को गलत साबित कर रहा है सरकार का ही आंकड़ा

• सभी गर्भवती और धात्रि महिलाओं को सप्ताह में 5 दिन अंडा दिया जाए.
• आंगनबाड़ी और मध्याह्न भोजन में बच्चों को सप्ताह में 5 दिन अंडा दिया जाए.
• राज्य के हर सुदूर टोले में आंगनबाड़ी स्थापित की जाए, सभी आंगनबाड़ियों में बच्चों के पढ़ने की व्यवस्था को सुदृढ़ किया जाए एवं सभी बच्चों को रेडी-टू-ईट (पैकेट बंद खाद्य सामग्री) के बजाए गरम खाना दिया जाए.
• राज्य के सभी वृद्ध, विधवा और विकलांग लोगों को 2000 रुपये प्रति माह की सामाजिक सुरक्षा पेंशन ससमय दी जाए.
• झारखंड के मनरेगा मज़दूरी दर को बढ़ाकर कम-से-कम राज्य के न्यूनतम मज़दूरी दर के समान किया जाए.
• मनरेगा में सभी परिवारों को सालाना 200 दिन काम का अधिकार दिया जाए.
• मनरेगा मज़दूरी भुगतान किसी भी परिस्थिति में 15 दिनों के अन्दर मज़दूरो के खाते में सुनिश्चित की जाए.

(भोजन का अधिकार अभियान की ओर से)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: