Ranchi

15.50 लाख ठेका की भेंट चढ़ी निगम परिषद की बैठक, नाराज नगर आयुक्त ने किया रद्द

Ranchi : रांची नगर निगम की प्रतिमाह होने वाली निगम परिषद की बैठक एक बार फिर वेंडर मार्केट में सफाई और मेंटनेंस के दिये ठेके की भेंट चढ़ी. शनिवार को मेयर आशा लक़ड़ा की अध्यक्षता में हुई बैठक में तो निगम के वर्ष 2020-21 के बजट पर चर्चा होनी थी.

लेकिन इस चर्चा के पहले ही पार्षदों ने यह मुददा जोरों से रखा कि कचहरी रोड स्थित अटल स्मृति वेंडर मार्केट की सफाई और मेंटनेंस का ठेका सिंघल कंपनी को 15.50 लाख रुपये प्रतिमाह पर आखिर क्यों दिया गया है. जबकि इससे कम खर्च पर भी यह काम हो सकता है.

इसे भी पढ़ेंः सांसद संजय सेठ ने हर विधानसभा क्षेत्र के लिए जारी किया हेल्पलाइन नम्बर, मेडिकल एडवाइजरी के पालन की आपील

बता दें कि पिछले 6 माह से इस ठेके को लेकर पार्षद विवाद खड़ा कर रहे हैं. वार्ड नंबर 27 के पार्षद ओमप्रकाश सहित कुल छह पार्षदों ने ने कहा कि ठेका देने में मेयर, डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय, नगर आयुक्त मनोज कुमार सहित निगम के कई अधिकारियों की मिलीभगत है.

लगातार हंगामे को देख नगर आयुक्त ने सफाई का ठेका रद करने का निर्देश दे दिया. जिसपर बोर्ड में भी स्वीकृति मिल गयी. लेकिन वेंडर मार्केट का मेंटनेंस कैसे होगा, इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया. हालांकि परिषद की बैठक में निगम के 2246 करोड़ रुपये बजट की भी स्वीकृति मिल गयी.

इसे भी पढ़ेंः केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शशि थरूर से मांगी माफी, कहा था हत्या का आरोपी

 गर्मी से निजात के लिए प्रत्येक वार्ड में होगी पांच बोरिंग

बैठक में आने वाले गर्मी में पानी की किल्लत को देखते हुए तैयारी पर विस्तृत चर्चा हुए. इससे निपटने के लिए पार्षदों ने प्लान मांगा. जिसपर सम्मति से प्रत्येक वार्ड में पांच बोरिंग कराने का निर्णय लिया गया. कोरोना वायरस से बचाव को लेकर लोगों से अपील की गयी कि 31 मार्च तक लोग अपने घर में ही रहें.

साथ ही रोजाना 12 घंटे फॉगिंग कराने का निर्देश दिया. इसके लिए 7 कोल्ड माउंटेड फॉगिंग मशीन की खरीदारी के लिए राशि की मांग राज्य सरकार से की गयी.

 2246 करोड़ रुपये का बजट हुआ पास

बैठक में नगर निगम बोर्ड ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए 2246 करोड़ रुपये का बजट पास किया. बजट के मुख्य बिंदु है.

  • पहली बार मच्छर मारने और शिक्षा पर जोर देते हुए 1.50 करोड़ रुपये की लागत से 20 ऑटो वाटर माउंटेड फॉगिंग मशीन की खरीदारी पर सहमति बनी. बताया गया कि निगम के पास मात्र 3 वाटर माउंटेड फॉगिंग मशीन है. इस वजह से एक वार्ड में एक माह में एक बार फॉगिंग होता है.
  • शिक्षा के विकास पर होगा 10 करोड़ रुपये खर्च. पार्षदों की मांग पर प्रत्येक वार्ड में लाइब्रेरी बनेगी, वहां किताब, पत्रिका रखे जाएंगे, ताकि संबंधित वार्ड के छात्र वहां पढ़ाई कर सके.
  • रोड-नाली निर्माण पर होंगे 202 करोड़ खर्च.
  • निगम के सभी 53 वार्डों में रोड-नाली बनाने और पहले से बने नाले को कवर करने के लिए इस बार 202 करोड़ रुपये खर्च किया जाएगा. इसमें 67 करोड़ रुपये नाली और 135 करोड़ रुपये रोड बनाने पर खर्च होंगे.
  • फुटपाथ दुकानदारों को व्यवस्थित करने के लिए अटल वेंडर मार्केट के तर्ज पर राजधानी में 24.22 करोड़ रुपये से लागत से बनेंगे.
  • वार्डों के सभी पार्कों को सौंदर्यीकरण करने के लिए खर्च होंगे 3.63 करोड़ रुपये.
  • वार्ड कार्यालय के विकास और फर्नीचर की खरीदारी पर 2.44 करोड़ रुपये होंगे खर्च.
  • बजट में यह बात आयी है कि 14 वें वित्त आयोग से निगम को कुल 108 करोड़ रुपये मिलने का अनुमान है. इसी तर्ज पर नयी योजनाओं को लेने पर विचार किया जाएगा.
  • प्रधानमंत्री आवास योजना पर 80 करोड़ रुपये खर्च होगा.

इसे भी पढ़ेंः #CoronaVirus : ग्राहक बन कर एसडीएम ने खरीदा मास्क, दुकानदार ने ज्यादा कीमत वसूली, एसडीएम ने बंद करवायी दुकान 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button