न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कागजों में सिमट गया 14 हजार करोड़ का एक्शन प्लान, मियाद पूरी होने में सिर्फ चार माह बाकी

चार साल दावा पर दावा 24 घंटे मिलेगी बिजली, औसतन हर दिन 16 से 18 घंटे ही रहती है बिजली

385

Ranchi : झारखंड में 24 घंटे बिजली देने का एक्शन प्लान कागजों में ही सिमट गया है. पूरा प्लान 14 हजार करोड़ रुपये का है. इस प्लान को केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय भी स्वीकृति दे चुका था. प्लान के मुताबिक दिसंबर 2018 तक पूरे प्रदेश में 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने की बात कही गई थी. इसका डीपीआर बनाने में एक करोड़ रुपये से भी अधिक खर्च किये गये. इसके बाद इसे केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय के पास स्वीकृति के लिये भेजा गया. केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने इस प्लान को स्वीकृति भी दी.

इसे भी पढ़ें – झारखंड का कैडर मैनेजमेंट चरमराया, फंसी लाखों नियुक्तियां, 25 हजार कर्मियों का प्रमोशन पेंडिंग

ट्रांसमिशन लाइन में 9000 करोड़ खर्च करने की बात

एक्शन प्लान के मुताबिक ट्रांसमिशन लाइन में 9000 करोड़ और वितरण व्यवस्था में 5000 करोड़ खर्च किया जाना है.प्लान को देखते हुये कई औद्योगिक घराने एमओयू भी कर चुके हैं. ऐसे में उद्योगों को बिजली देना भी चुनौती बन गई है. जबकि एक्शन प्लान में बढ़ती आबादी और औद्योगिक विस्तार पर फोकस किया गया है.

इसे भी पढ़ें – मीटर खरीद मामले में जेबीवीएनएल जिद पर अड़ा, मनमाने ढंग से टेंडर के बाद सीएमडी की चिट्ठी की भी परवाह…

डीवीसी कमांड एरिया में छाया है अंधेरा

एक्शन प्लान के मुताबिक, डीवीसी कमांड एरिया में अपनी वितरण नेटवर्क तैयार करने की भी बात है. कमांड एरिया में चतरा, गिरिडीह, कोडरमा, धनबाद, बोकारो, रामगढ़ और हजारीबाग आता है. फिलहाल इन जिलों में डीवीसी बिजली की आपूर्ति कर रहा है.

इसे भी पढ़ें – पाकुड़ में मनरेगा घोटाला : शिबू सोरने के नाम पर 1,08,864 रुपये की अवैध निकासी

2019 में 5500 मेगावाट बिजली की जरूरत

प्लान के मुताबिक, 2019 तक 5,500 मेगावाट बिजली की जरूरत होगी. जबकि वर्तमान में पांचों लाइसेंसी मिलकर 3255 मेगावाट ही बिजली की आपूर्ति कर रहे हैं. जो मांग के 18.5 फीसदी कम ही है.

ऐसे तय किया गया है प्लान में बिजली की मांग

वर्ष          कितनी मांग(मेगावाट)    कितनी उपलब्ध रहेगी बिजली(मेगावाट)

2016               3706                                 3800

2017               4376                                 4400

2018              4987                                    5050

2019             5696                                       5700

इसे भी पढ़ें – झारखंड हाईकोर्ट में सशरीर हाजिर हुए डीजीपी, कोर्ट ने लगाई फटकार

इन एमओयू और एलोकेशन से ऐसे मिलनी है बिजली

कंपनी – संस्था             कितना मेगावाट

दारीपल्ली                       500

गजमारा                             500

गजमारा टू                      500

तालचेर                        300

बाढ़                           202

बाढ़ टू                         80

बोंगाई गांव                      100

नवीनगर                        60

नॉर्थकर्णपुरा                     396

कांटी                          12

तिलैया                        1000

टांटिया                        165

हाइड्रो प्लांट से ऐसी मिलनी है बिजली

कंपनी                    मेगावाट

palamu_12

तिपाईपुख                 300

बीएसएचपीसी               09

दिबांग                   1000

एचइपी                    12.79

एचइपी                    85.97

तिस्सा                    46

ऐसे बनाना था चार साल में ट्रांसमिशन लाइन

वर्ष                                                   सर्किट किलोमीटर

2016                                                         2297

2017                                                         1018

2018                                                         2004

2019                                                         13558

इसे भी पढ़ें – बाहर के लोक उपक्रम आकर कर रहे झारखंड में काम, हमारे निगम काम पूरा ही नहीं करते…..

कौन कंपनी कितनी करती है बिजली आपूर्ति

कंपनी का नाम                   मेगावाट

डीवीसी                             946

जूस्को                               43

टाटास्टील                         435

सेल बोकारो                      21

बिजली वितरण निगम       1900 से 2000

इसे भी पढ़ें – बगैर जमीन के ही निकाल दिया 25 करोड़ का टेंडर, अब मांग रहे जमीन

जानिये बिजली कंपनियों का सच

राज्य के एकमात्र पावर प्लांट से सिर्फ 170 मेगावाट ही उत्पादन

हर दिन 400 करोड़ की खरीदी जा रही बिजली

आधा दर्जन ट्रांसमिशन लाइन का नहीं हो पाया निर्माण

18 लाख परिवारों को अब तक नहीं मिली है बिजली

तीन अल्ट्रा मेगा पावर प्लांट अधर में

पतरातू से बिजली उत्पादन शुरू होने में कम से कम तीन साल का समय लगेगा

तिलैया प्लांट की रिबिडिंग नहीं हुई है.

देवघर प्लांट का जमीन अधिग्रहण नहीं हुआ है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: