न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकिस्तान के बलूचिस्तान में बसों से उतार कर 14 लोगों की गोली मार कर हत्या  

यात्रियों के पहचान पत्रों की जांच की और उनमें से करीब 16 को नीचे उतार लिया.

98

Karachi पाकिस्तान के अशांत बलूचिस्तान प्रांत में अज्ञात बंदूकधारियों ने मकरान कोस्टल हाईवे पर एक बस से यात्रियों को जबर्दस्ती उतारने के बाद कम से कम 14 लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी. मीडिया की एक खबर में यह जानकारी दी गयी है. सुरक्षा सूत्रों के अनुसार सेना जैसी वर्दी पहने लगभग 15 से 20 अज्ञात बंदूकधारियों ने कराची और ग्वादर के बीच चलने वाली पांच से छह बसों को रोका. उन्होंने ब्लूचिस्तान के ओरमारा इलाके में मकरान तटीय राजमार्ग पर एक बस को रोका, यात्रियों के पहचान पत्रों की जांच की और उनमें से करीब 16 को नीचे उतार लिया.

mi banner add

इसे भी पढ़ेंःओडिशाः वोटिंग से पहले पोलिंग पार्टी पर माओवादी हमला, चुनाव पर्यवेक्षक की हत्या

मृतकों में  नौसेनिक अधिकारी और तट रक्षक सदस्य भी शामिल

डॉन अखबार के अनुसार कम से कम 14 यात्रियों की गोली मार कर हत्या कर दी गयी, जबकि दो यात्री भाग निकलने में सफल रहे और नजदीकी जांच चौकी पर पहुंच गये. उन्हें इलाज के लिए एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है.गृह सचिव के अनुसार मृतकों में एक नौसेनिक अधिकारी और तट रक्षक सदस्य भी शामिल था। रिपोर्ट के अनुसार चौकी के कर्मचारी और अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों के कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंचे और घटना की जांच शुरू की. हत्या की इस घटना के पीछे की वजह और पीड़ितों की अभी तक पहचान नहीं हो सकी है. बता दें कि अफगानिस्तान और ईरान की सीमा से लगा बलूचिस्तान पाकिस्तान का सबसे बड़ा और गरीब प्रांत है.

इसे भी पढ़ेंःदंतेवाड़ाः विधायक भीमा मंडावी की हत्या में शामिल वर्गीस समेत दो नक्सली ढेर

Related Posts

ईरान में सीआईए के 17 जासूस गिरफ्तार , कुछ को फांसी  दिये जाने की खबर  

ईरान के सरकारी न्यूज चैनल ने देश के इंटेलीजेंस मंत्रालय के हवाले से कहा है कि सीआईए के खुफिया तंत्र को तोड़ कर 17 जासूसों को पकड़ लिया गया है.

  खास समुदाय को लगातार निशाना बनाया जा रहा है

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान में एक खास समुदाय को लगातार निशाना बनाया जा रहा है.  इस हमले की अभी तक किसी ने जिम्मेदारी नहीं ली है.  हजारा समुदाय पर लगातार हमले किये जा रहे हैं.  माना जा रहा है कि मामला इससे जुड़ा हो सकता है. पिछले चार दशकों से हिंसा से बचने के लिए अफगानिस्ता

न से भागकर आये करीब पांच लाख हजारा समुदाय के लोग क्वेटा और कई जगहों पर बसे हुए हैं.  हजारा समुदाय के लोग छोटे-मोटे व्यापारी होते हैं;  उन्हें हजारीगंज से आने-जाने के दौरान सुरक्षा मुहैया कराई जाती है, क्योंकि ये लगातार निशाने पर रहते हैं.

इसे भी पढ़ेंः पश्चिम बंगाल :  भाजपा- टीएमसी कार्यकर्ताओं में झड़प, सीपीएम कैंडिडेट मोहम्मद सलीम की कार पर पथराव

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: