NEWS

14 दिन होम क्वारंटीन के डर से कहीं 6 महीने से दिल्ली में जमे तो नहीं हैं गोड्डा MP निशिकांत दुबे

विज्ञापन

Akshay Kumar Jha

Ranchi: आस्था, व्यापार और राजनीति कोरोना काल में इन सभी चीजों पर ब्रेक लग गयी है. सारी चीजें अब कोविड के साथ-साथ ही चल रही है. विधायक हो या सांसद अपने क्षेत्र में सावधानी बरतते हुए सक्रिय हैं. दूसरे राज्यों से आये कई जनप्रतिनिधियों को 14 दिनों तक होम क्वारंटीन होना पड़ा. इनमें बाबूलाल मरांडी, दीपक प्रकाश, संजय सेठ और पीएन सिंह जैसे तमाम बड़े नेताओं के नाम शामिल हैं.

लेकिन एक सांसद ऐसे हैं, जो लॉकडाउन लगने के बाद से ही दिल्ली में जमे हैं. वो क्षेत्र भ्रमण पर भी आते हैं, तो 72 घंटे के अंदर वापस दिल्ली लौट जाते हैं. ताकि उन्हें 14 दिनों तक होम क्वारंटीन ना होना पड़े. अपने संसदीय क्षेत्र में ना होने की वजह से वहां की जनता अपनी बात को सांसद तक सही तरीके से नहीं पहुंचा पा रही है.

advt

इसे भी पढ़ें – रांचीः BJP विधायक समरी लाल की बेटी ने पिता पर लगाया मारपीट का आरोप, बीजेपी ऑफिस में हंगामा

चार्टर्ड प्लेन से दो जुलाई को पहुंचे और चार की सुबह वापस दिल्ली

23 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन लगा. ट्रेन, फ्लाइट सभी चीजों पर रोक लग गयी. ऐसे में सड़क मार्ग से जरूरतमंद अपने गृह जिला वापस होने लगे. वापसी होने के बाद राज्य के कानून के तहत सभी ने होम क्वारंटीन का पालन किया. लेकिन गोड्डा सांसद अपने क्षेत्र वापस नहीं हुए. मार्च में लॉकडाउन लगने के चार महीने के बाद वो दो जुलाई को एक निजी विमान से सीधा दुमका पहुंचे.

दुमका पहुंचने के बाद निशिकांत दुबे ने देवघर सहित अपने लोकसभा क्षेत्र का दौरा किया और चार जुलाई की सुबह 72 घंटा पूरा होने से पहले ही वापस दिल्ली रवाना हो गए. दरअसल झारखंड सरकार के आपदा विभाग के नियमों के मुताबिक, अगर कोई हवाई मार्ग से राज्य में आता है और 72 घंटे में वापसी के सबूत दिखाता है, तो उसे 14 दिनों के होम क्वारंटीन के नियमों का पालन नहीं करना होता है. इसी वजह से सांसद निशिकांत 72 घंटा पूरा होने से पहले दिल्ली वापस लौट गए.

 72 घंटे के अंदर निकल जाता हूं, क्यों होऊंगा क्वारंटीनः निशिकांत

इस मामले पर न्यूज विंग ने गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे से बात की. उन्होंने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है कि मैं दिल्ली में फंसा हुआ है. मैं क्षेत्र का दौरा करता रहता हूं. लॉकडाउन में अभी तक मैं दो बार अपने क्षेत्र जा चुका हूं. और हाल में ही एक बार फिर जाऊंगा. देवघर में एयरपोर्ट का दौरा करना है. मैं उसमें भी आऊंगा. मैं लगातार क्षेत्र में बड़ी-बड़ी बैठकों में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए शामिल हो रहा हूं. दिशा की बैठक में भी वीसी के जरिए शामिल था.

adv

भारत सरकार की दिशा-निर्देश पर जूम एप के जरिए बैठकों में शामिल होता हूं. 14 दिनों की क्वारंटीन होने की बात पर सांसद ने कहा कि आखिर क्यों मुझे कोई क्वारंटीन करेगा. 72 घंटे का नियम है. मैं उस अवधि के अंदर ही निकल ही जाता हूं.

इसे भी पढ़ें – सीबीआइ ने कहा- सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में मीडिया में आ रही खबरें तथ्यों पर आधारित नहीं

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button