न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वित्तीय वर्ष 2018-19 के अंतिम दिन सरकारी विभागों ने दी 13425.74 करोड़ की स्वीकृति

स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग की तरफ से 3804.55 करोड़  का किया गया सैंक्शन आदेश

45

Ranchi : झारखंड सरकार की तरफ से वित्तीय वर्ष 2018-19 के अंतिम दिन 13425.74 करोड़ रुपये का स्वीकृत्यादेश जारी किया. वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग के प्राथमिक और व्यस्क शिक्षा प्रकल्प के तहत सर्वाधिक 3804.55 करोड़ का डिमांड कोषागार में प्रस्तुत किया गया था.

इसके अलावा पर्यटन विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, वित्त विभाग, योजना और वित्त विभाग तथा अन्य शामिल हैं. कुल 13 स्वीकृत्यादेश के जरिये यह राशि कोषागार से निकालने के लिए आवेदन दिया गया.

राज्य सरकार के ऑनलाइन ट्रेजरी प्रबंधन सॉफ्टवेयर के जरिए यह रिपोर्ट जारी की गयी है. इस रिपोर्ट में महत्वपूर्ण बात यह है कि सरकार की तरफ से विभिन्न योजनाओं के ऋण का कर्ज चुकाने के लिए 96.10 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गयी. इसका स्वीकृत्यादेश भी जारी किया गया.

इतना ही नहीं योजनाओं के लिए मिले कर्ज का पुनर्भुगतान करने के लिए 332.73 करोड़ रुपये सैंक्शन किये गये. पर्यटन विभाग की ओर से 4.70 करोड़ रुपये की मांग पर्यटन को बढ़ावा दिये जाने और कला संस्कृति के लिए सैंक्शन किया गया.

ग्रामीण विकास विभाग की तरफ से 9.75 करोड़, योजना और वित्त विभाग की तरफ से 6.59 करोड़ की मांग की गयी.

इसे भी पढ़ें – पूर्व सांसद प्रो.रीता वर्मा पर होगी अनुशासनात्मक कार्रवाई, प्रदेश प्रवक्ता ने दिये संकेत

Related Posts

भाजपा शासनकाल में एक भी उद्योग नहीं लगा, नौकरी के लिए दर दर भटक रहे हैं युवा : अरुप चटर्जी

चिरकुंडा स्थित यंग स्टार क्लब परिसर में रविवार को अलग मासस और युवा मोर्चा का मिलन समारोह हुआ.

SMILE

विभाग ने खर्च नहीं होनेवाली राशि को सरेंडर करने का किया था आदेश

योजना और वित्त विभाग की तरफ से सभी विभागीय प्रमुखों को निर्देश दिया गया था कि वे खर्च नहीं होनेवाली राशि को 31 मार्च के पहले सरेंडर कर दें.

यह भी कहा गया था कि मार्च लूट से बचने के लिए ऑनलाइन व्यवस्था के तहत ही विभाग योजनाओं का नाम, योजना का कोड, केंद्र और राज्य सरकार की योजना की व्याख्या कर 31 मार्च से पहले कोषागार में अपना डिमांड नोट भेजें.

बावजूद इसके कई विभागों की तरफ से वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन स्वीकृत्यादेश जारी कर कोषागार में डिमांड नोट भेजे गये.

इसे भी पढ़ें – सीएम रघुवर दास समेत पांच पूर्व सीएम का चुनाव में होगा लिटमस टेस्ट, दांव पर है प्रतिष्ठा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: