Crime NewsJharkhandRanchi

राजधानी में 8 महीनों में दुष्कर्म की 130 घटनाएं, पुलिस का ध्यान सिर्फ हेलमेट चेकिंग पर !

Ranchi: महिलाओं की सुरक्षा के नाम पर रांची पुलिस बड़े-बड़े दावे तो करती है. लेकिन महिला अपराध के आंकड़े इन दावों की सच्चाई बयां करते हैं. कभी राजधानी रांची से एक लड़की का अपहरण कर उसे धनबाद ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया जाता है.

इसे भी पढ़ेंः बच्चों की किताबों पर हर साल 150 करोड़ का वारा न्यारा, खेल में ब्यूरोक्रेट्स भी खिलाड़ी

वही दूसरी तरफ शहर के बीचोबीच नाबालिग बच्ची के साथ कुछ युवक तीन दिनों तक हैवानियत करते हैं, और पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगती. ऐसी घटनाएं झारखंड में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर पुलिस की सजगता की वास्तविकता बताने को काफी है. हां, रांची पुलिस अगर किसी काम में काफी सजग दिखती है तो वो है हेलमेट चेकिंग.

ram janam hospital
Catalyst IAS

पिछले दो दिनों में दो बड़ी घटनाएं

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

पिछले दो दिनों में दो बड़े मामले सामने आएं हैं. जहां एक तरफ रांची के रेडियम रोड से एक युवती का अपहरण कर धनबाद ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया जाता है. वहीं शहर के बीचोबीच सुखदेव नगर थाना क्षेत्र के मधु कम में सात युवकों के द्वारा एक नाबालिग लड़की के साथ तीन दिनों तक एक कमरे में कैद कर लगातार रेप किया गया. लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी.

रांची में पिछले 8 महीने में 130 दुष्कर्म

राजधानी रांची में पिछले 8 महीनों में 130 दुष्कर्म की घटनाएं हुई. अधिकतर दुष्कर्म के मामले में पुलिस आरोपी को नहीं पकड़ पाई है. जनवरी में 12, फरवरी में 12, मार्च में 17, अप्रैल में 18, मई में 18, जून में 13, जुलाई में 21 और अगस्त में 19 दुष्कर्म की घटनाएं राजधानी रांची में घटी.

इसे भी पढ़ें- माइक पकड़ते ही पाकुड़ डीसी हो गए बेकाबू ! अधिकारियों को कहा निकम्मा, की बहुत सारी अनर्गल बातें

शहर के मुख्य मार्ग पर ही दिखती है पुलिस

रांची में मुख्य मार्ग पर ही सिर्फ पुलिस देखती है. मुख्य सड़कों के मुकाबले गलियों में पेट्रोलिंग काफी कम होती है. जिसका फायदा उठाकर अपराधी घटना को अंजाम देकर भागने में सफल हो जाते हैं. पुलिस सिर्फ हेलमेट चेकिंग और गाड़ी के कागजात चेक करने में ही उलझी दिखती है.

पूरे झारखंड में बढ़ी दुष्कर्म की घटनाएं

झारखंड पुलिस के क्राइम रिकॉर्ड के आंकड़े के अनुसार, साल 2015 में पूरे झारखंड में 1053 दुष्कर्म के मामले दर्ज किए गए. यानि 2015 के हर महीने 87.75 के अनुपात से दुष्कर्म की घटना हुई. वहीं साल 2016 में पूरे झारखंड में एक 1109 दुष्कर्म के मामले दर्ज किए गए. यानी कि हर महीने 92.41 के अनुपात से दुष्कर्म की घटना हुई. जो साल 2015 की तुलना में 4.66% ज्यादा है.

इसे भी पढ़ें- ‘इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियन सर्विसेस लिमिटेड’ की तेजी से बिगड़ती वित्तीय स्थिति

वही 2017 में पूरे झारखंड में 1251 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए. यानी हर महीने 104.25 के अनुपात से दुष्कर्म की घटना हुई, जो कि साल 2016 की तुलना में 12.11% अधिक है. सबसे चौंकाने वाले आंकड़े तो साल 2018 के हैं, साल 2018 जनवरी से लेकर जुलाई तक 846 दुष्कर्म की घटनाएं पूरे झारखंड में हुई. यानी 120.85 हर महीने का अनुपात रहा. 2017 की तुलना में 2018 के 7 महीने में ही 16.6% दुष्कर्म की घटना में बढ़ोतरी हुई है.

रांची में दुष्कर्म की कुछ प्रमुख घटनाएं

03 मार्चः रांची के तुपुदाना में नशीला पदार्थ खिलाकर नाबालिग से गैंगरेप
04 मार्चः रांची के जगन्नाथपुर में युवती के साथ गैंगरेप, सात गिरफ्तार
08 अप्रैलः रांची के रातू में छात्रा की रेप के बाद हत्या
05 सितंबरः बरियातू के बड़गाई में 6 वर्षीय बच्ची के साथ एक युवक ने दुष्कर्म किया.
25 सितंबरः रांची से एक युवती का अपहरण करके धनबाद में उसके साथ दुष्कर्म किया गया
26 सितंबरः सुखदेव नगर थाना क्षेत्र के मधुकम में एक नाबालिग लड़की को एक कमरे में बंद करके उसके साथ लगातार तीन दिनों तक सात युवकों ने दुष्कर्म किया.

Related Articles

Back to top button