NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

130.95 एकड़ जमीन का अधिग्रहण प्रक्रिया के बाद होगी कोलियरी शुरू : काशीनाथ

पिछरी कोलियरी को चालू करने को लेकर हुई बैठक, रैयतों ने बिजली पोल गाड़ने का किया विरोध

193

Bokaro : सीसीएल ढ़ोरी प्रक्षेत्र के बंद पडे़ पिछरी कोलियरी को चालू करने की प्रक्रिया के तहत मंगलवार को पिछरी टुंगरी कुल्ही में सीसीएल अधिकारी व रैयतों-विस्थापितों की बैठक हुई. जिसमें ढ़ोरी महाप्रबंधक एम के अग्रवाल, अमलो पीओ पीएन यादव सहित अधिकारी व पिछरी कोलियरी रैयत-विस्थापित मोर्चा के संरक्षक सह विस्थापित नेता काशीनाथ सिंह के अलावे सैकड़ों ग्रामीणों की उपस्थिति में जून 2002 से बंद कोलियरी को चालू करने पर चर्चा हुई.

इसे भी पढ़ें- रांची : हाईटेक थानों के दावों के बीच जान जोखिम में डाल काम करते हैं पुलिसकर्मी

जमीन का अधिग्रहण प्रक्रिया शुरू होने के बाद आगे होगी कार्रवाई

विस्थापित नेता काशीनाथ सिंह ने कहा कि पिछरी कोलियरी भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के तहत चालू होगा. सीसीएल अधिकारी रैयतों के साथ ठगने का काम कर रही है. पूर्व में बिना अधिग्रहण के पिछरी कोलियरी को चलाया गया था. पूर्व में 500 बीघा जमीन लिया गया था. जिसकी कागजात सीसीएल के पास नहीं है. प्रबंधन के पास 500 बीघा के जमीन की प्लांट नं., खाता नं. एवं रकवा नहीं है. प्रबंधन से कागजात मांगा गया लेकिन प्रबंधन कागजात देने में आसमर्थता जतायी. कहा कि 130 एकड़ 95 डिसमील जमीन का अधिग्रहण प्रक्रिया शुरू होगा उसके बाद अधिग्रहण जमीन पर आगे की कार्रवाई होगी. पहले से प्रभावित रैयत को अधिकार मिले उसके बाद खदान से पानी निकासी की जाएगी. अधिकारी ईमानदारी से कार्य करेगें तो सहयोग दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें- RMC ने 10 हजार से अधिक की आबादी को मच्छरदानी में कर रखा है कैद

कैंप लगाकर जमीन नापी पर बनी सहमति

सीसीएल अधिकारी द्वारा मौखिक कोई कार्य नहीं होगा. सीसीएल अधिकारी कोलियरी चालू करने के बाद रैयतों को अधिकार से बंचित कर देगा. आउट सोर्सिंग के जरीये कोयला निकाल लेगें ऐसे में भूखमरी के कगार पर रैयत कहां जायेंगे. यहां सीसीएल अधिकारी व रैयतों में 130 एकड़ 95 डीसमील जमीन के कागजात को बुधवार से कैम्प लगाकर जमीन नापी पर सहमति बनी. ढ़ोरी जीएम एम के अग्रवाल ने कहा कि बंद पिछरी कोलियरी चालू करने में सहयोग करें. कहा कि कोल इंडीया के आर आर पोलिसी के तहत नौकरी, मुआवजा व पुर्णवास दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें- हिंदपीढ़ी : 20 दिन पहले ही सिविल सर्जन से की गयी थी चिकनगुनिया फैलने की शिकायत, फिर भी…

madhuranjan_add

पूर्व की कड़वाहट को भूल कर भविष्‍य की मिठास को देखें

रैयतों को दो एकड़ जमीन के बदले एक नौकरी अधिकार है. कहा कि प्रबंधन का नियत साफ है, मन में पूर्व की कड़वाहट को भूल कर भविष्‍य की मिठास को देखिये. पिछरी कोलियरी में कोयला का अपार भंडार है, जिससे 20  वर्ष तक कोयला निकाला जाएगा. कहा कि रैयत जमीन सत्यापन के लिए कागजात जमा करें जिसे पेटरवार अंचल कार्यालय भेज कर सीओ द्वारा सत्यापन किया जाएगा. कहा कि पिछरी कोलियरी के बंद खदान से पानी निकासी के लिए बिजली पोल गाड़ने में सहयोग करें. इस पर ग्रामीणों ने विरोध जताया. रैयतों ने कहा कि पहले जमीन अधिग्रहण करें फिर कोलियरी में कार्य करने देगें.

इसे भी पढ़ें- फर्जी नक्सली सरेंडर मामले में हाई कोर्ट सख्त, गृह सचिव तलब, अगली सुनवाई 6 सितंबर को

बैठक में ये लोग थे मौजूद

बैठक में सीसीएल ढ़ोरी के अमला पदाधिकारी राजेश कुमार, भू-राजस्व अधिकारी एम कुमार, अमला अधिकारी प्रशासनिक सुरेश सिंह, सर्वे अधिकारी सहदेव मजूमदार, अमीन बीके मंडल शामिल थे. मौके पर निर्मल चाैधरी, काली सिंह, गोपाल सिंह, संजय मल्लाह, आशीष पाल, दिलचंद महतो, नारायण मल्लाह, निमाई सिंह, मो. सोबराती अंसारी, मो. अब्दूल अंसारी, सुखदेव तुरी, कजली देवी सहित सैकडों ग्रामीण मौजूद थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: