न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

306 मतदान केन्द्रों के लिए 1236 कर्मियों को गिरिडीह कॉलेज से किया गया रवाना

1,299

Giridih:  छठे चरण के लिए रविवार को गिरिडीह लोस में होने वाले चुनाव को लेकर शनिवार को गिरिडीह कॉलेज से मतदान कर्मियों को रवाना किया गया. कर्मियों को रवाना करने की मॉनिटरिंग खुद डीसी सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी राजेश पाठक, एसपी सुरेन्द्र झा, डीडीसी मुंकुद दास के अलावे सदर एसडीएम राजेश प्रजापति समेत एसडीपीओ जीतवाहन उरांव और डीएसपी संतोष मिश्रा कर रहे थे.

चिलचिलाती धूप में तमाम अधिकारी मतदान कर्मियों को उनके ईवीएम व वीवीपैड के साथ अन्य चुनाव सामग्रियों का वितरण कर रवाना कर रहे थे.

गिरिडीह विस के शहरी और ग्रामीण इलाकों के मतदान केन्द्रों के अलावे पीरटांड, डुमरी के साथ बोकारो के नावाडीह व चन्द्रपुरा के 306 मतदान केन्द्रों के लिए एक हजार 236 मतदान कर्मियों को वाहनों से रवाना किया गया.

इसे भी पढ़ेंः  पटना हाईकोर्ट ने जेएनयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष चंद्रशेखर की हत्या के दोषियों की उम्रकैद की सजा बहाल रखी

गर्मी की वजह से बेहाल दिखे अधिकारी और मतदानकर्मी

गर्मी की वजह से मतदान कर्मियों को रवाना किए जाने के क्रम में अधिकारी भी परेशान दिखे. गिरिडीह कॉलेज परिसर से मतदान कर्मियों को भेजा जा रहा था. कार्यालय कक्ष से हर वाहन चालक को लगातार सूचनाएं देने के बाद भी मतदान कर्मियों को उनके इलाके के वाहन नहीं मिल रहे थे. लिहाजा, इस परेशानी को दूर करने को लेकर अधिकारी परेशान रहे.

Related Posts

ट्रक हड़ताल का दूसरा दिन, राजमार्गों पर लगा भारी जाम, जल्द बढ़ सकते हैं सामानों के दाम

फेडरेशन आफ वेस्ट बंगाल ट्रक ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने इस हड़ताल का आह्वान किया  है.

SMILE

वाहनों की तलाश में भटकते रहे मतदान कर्मी

अधिकारी इन इलाकों के वाहनों को तलाश कर उनके मतदान कर्मियों को भिजवाने की व्यवस्था में लगे थे. कॉलेज परिसर में ही अलग-अलग विस क्षेत्र के बूथों का स्टॉल बनाया गया था.

जहां से मतदान कर्मियों को चुनाव सामग्री वितरण किया जा रहा था. दोपहर बाद तमाम इलाके के मतदान कर्मियों को रवाना कर दिया गया. इसके बाद अधिकारियों ने राहत का सांस ली.

बतातें चलें कि शुक्रवार को ही पीरटांड और खुखरा के अतिसंवेदनशील बूथों के मतदान कर्मियों को झारखंड पुलिस के चैपर से रवाना किया गया था. वहीं शनिवार को 306 बूथों के मतदान कर्मियों को भेजा गया.

इसे भी पढ़ेंः जी हिंदुस्तान चैनल पर आठ सप्ताह में कार्रवाई करने का आदेश, मानवाधिकार आयोग ने सूचना प्रसारण मंत्रालय से कहा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: