Lead NewsNationalNEWSTOP SLIDER

बाढ़ और भूस्खलन से 112 लोगों की मौत, एनडीआरएफ राहत-बचाव कार्यों में जुटीं, देखें VIDEO

महाराष्ट्र के रायगढ़, कोल्हापुर, सांगली, सतारा, रत्नागिरी और ठाणे में कई हादसे

Mumbai : महाराष्ट्र में बारिश के चलते हालात खतरनाक बनते जा रहे हैं. लगातार पांच दिनों से हो रही बारिश की वजह से रायगढ़, कोल्हापुर, सांगली, सतारा, रत्नागिरी और ठाणे में दर्दनाक हादसे हो रहे हैं, अभी तक 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैं. यहां एनडीआरएफ की 34 टीमें राहत और बचाव कार्यों में जुटी हैं.
राज्य के मुंबई, पलघर और ठाणे में आज भी बारिश की आशंका है. मौसम विभाग की मानें तो राज्य के कई जिलों में आज भारी से भारी बारिश हो सकती है.

एनडीआरएफ के डीजी एस एन प्रधान ने दी जानकारी

एनडीआरएफ के निदेशक (डीजी) एस एन प्रधान ने राज्य के रायगढ़, रत्नागिरी और सतारा जिलों में जारी राहत बचाव कार्यों पर प्रतिक्रिया दी है. (डीजी) एस एन प्रधान ने ट्वीट कर बताया कि एनडीआरएफ के बचावकर्मियों ने इन क्षेत्रों से कुल 73 शव निकाले हैं, जिनमें सबसे अधिक 44 शव रायगढ़ की महाड़ तहसील के तलिए गांव से हैं.
वहीं इन तीन जिलों में 47 लोगों के लापता होने की सूचना है. बता दें कि एनडीआरएफ रायगढ़ में भूस्खलन प्रभावित तलिए, रत्नागिरी में पोरस और सतारा जिले के मीरगांव, अंबेघर और ढोकावाले में काम कर रहा है. एनडीआरएफ के अलावा सेना भी राहत बचाव कार्यों में लगी हुई है.
इसे भी पढ़ें :महाराष्ट्र मॉडल से पैसे की उगाही का जरिया ढूंढ़ रही हेमंत सरकार : बाबूलाल मरांडी

रायगढ़ जिले में 52 की मौत

वहीं राज्य सरकार के आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र के पुणे और कोंकण क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश से मरने वालों की संख्या 112 है, जिसमें अकेले तटीय रायगढ़ जिले में 52 शामिल हैं. पश्चिमी महाराष्ट्र के सांगली जिले में 78,111 और कोल्हापुर जिले के 40,882 लोगों सहित 1,35,313 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. इलाकों में युद्ध स्तर पर राहत और बचाव कार्य जारी है.
इसे भी पढ़ें :मीराबाई चानू को लाइफटाइम फ्री पिज्जा देगा Dominos, ओलंपिक मेडलिस्ट ने मैच के बाद जताई थी Pizza खाने की इच्छा

सांगली जिले के कई गांव बाढ़ की चपेट

कृष्णा नदी के उफनने से महाराष्ट्र के सांगली जिले के कई गांव बाढ़ की चपेट में है. इलाके के लोग बाढ़ के पानी से पूरी तरह घिर चुके हैं. एनडीआरएफ की टीम स्थानीय लोगों की मदद से बचाने में जुटे हुए हैं. अभी तक आठ हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.
इसे भी पढ़ें :झोलाछाप डॉक्टर ने सिर में छोड़ा  दिया पत्थर, आपरेशन के बाद निकाला गया

आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने के निर्देश

राज्य में भारी बारिश और बाढ़ से हुए नुकसान को लेकर महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया. सीएमओ ने ट्वीट किया ‘एक से दो दिनों में समीक्षा की जाएगी, लेकिन फिलहाल संबंधित जिला कलेक्टरों को बाढ़ पीड़ितों को भोजन, दवा, कपड़े और अन्य आवश्यक सामग्री मुहैया कराने के निर्देश दिए गए हैं.
इसे भी पढ़ें :छत्तीसगढ़, ओडिशा और पश्चिम बंगाल से ज्यादा महंगी है झारखंड के सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजों में पढ़ाई

कोंकण रेल मार्ग शुरू

कोल्हापुर के कई हिस्सों में सड़कों पर पानी भर गया है. कोंकण रेल मार्ग फिर से शुरू किया गया है. पटरियां पानी में डूबने की वजह से दो दिन तक इस पर ट्रेनों की आवाजाही बंद कर दी गई थी.
इसे भी पढ़ें :Alert : बदलते मौसम की सर्दी-खांसी को हल्के में न लें,  कोरोना के हैं लक्षण

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: