GiridihJharkhand

18 जिलों के 110 स्वयंसेवकों ने 20 दिनों तक लिया आरएसएस का प्रशिक्षण

मधवाडीह के एकल ग्रामोत्थान फांउडेशन में आरएसएस का संघ शिक्षा वर्ग का हुआ समापन

Giridih: खंडौली पर्यटनस्थल के समीप मधवाडीह गांव स्थित एकल ग्रामोत्थान फांउडेशन में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का संघ शिक्षा वर्ग का समापन हुआ. शिक्षा वर्ग के समापन समारोह की शुरुआत धनबाद के जिला संघचालक सह वर्गाधिकारी नित्यानंद पांडे, एकल ग्रामोत्थान के अध्यक्ष प्रदीप जैन और अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख आलोक कुमार ने मां भारती की तस्वीर के समक्ष दीप जलाकर और कार्यकर्ताओं ने संघ के नियमानुसार भगवा ध्वज लहराकर की और संघ प्रार्थना की गयी.

इस दौरान 20 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में संघ के युवा कार्यकर्ताओं ने नियुद्ध, योगासन, जूडो और मार्शलआर्ट के साथ सूर्य नमस्कार का प्रदर्शन किया. युद्ध कला से मौजूद लोगों को अवगत कराया.

advt

इसे भी पढ़ें:BIG NEWS : पंजाब सरकार का बड़ा एलान, किसान आंदोलन में जान गंवानेवाले 147 किसानों के परिजनों को सरकारी नौकरी

प्रशिक्षण के समापन में किसान मोर्चा के संयोजक दिलीप वर्मा, पूर्व जिलाध्यक्ष सुनील अग्रवाल, डिप्टी महापौर प्रकाश सेठ, पूर्व विधायक निर्भय शाहाबादी, जयप्रकाश वर्मा, पूर्व महापौर सुनील पासवान, संदीप डंगाईच, संजीत सिंह पप्पू, राजेन्द्र लाल बरनवाल, संघ के कार्यवाह मुकेश रंजन सिंह, नगर संघ चालक सांवरमल शर्मा वैद्य भी मौजूद थे.

मौके पर वर्ग कार्यवाह प्रमोद यादव ने कहा कि राज्य के 18 जिलों के युवा सदस्य 20 दिनों के प्रशिक्षण में शामिल हुए. हर स्वयं सेवक ने इन 20 दिनों में शारीरिक प्रशिक्षण किया तो बौद्धिक में भी शामिल हुए. एक-एक स्वयसेवक ने ग्रामोत्थान फांउडेशन में पर्यावरण संरक्षण के लिए 110 फलदार पौधे लगाए.

इसे भी पढ़ें:हेमंत की शिकायतों पर केंद्र गंभीर- नीति आयोग, कोयला, ऊर्जा और जल शक्ति मंत्रालय से होगी वार्ता, 7 अक्टूबर तक मांगा प्रपोजल

इधर वर्गाधिकारी नित्यानंद पांडेय ने कहा कि आरएसएस का मकसद राष्ट्रवादी व्यक्ति का निर्माण करना है और इसमें संघ को बड़ी सफलता भी मिल रही है.

वर्गाधिकारी ने कहा कि सनातन समाज को संगठित कर देश को उन्नति के रास्ते पर लाने की दिशा में आरएसएस का प्रयास कई दशकों से जारी है.

इसे भी पढ़ें:4 में हुई कोरोना की पुष्टि, कुल संक्रमितों की संख्या पहुंची 51,911

यही नही अब संघ संभावित तीसरी लहर को देखते हुए हर गांव से 10-10 कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करने का कार्य कर रहा है क्योंकि कोरोना की पहले और दूसरे लहर में आरएसएस के स्वयंसेवकों ने एक-एक पीड़ित तक पहुंचने का कार्य किया.

प्रशिक्षण के समापन के दौरान नलिन कुमार, संतोष खत्री, नवल जी, मृत्युजंय शर्मा समेत काफी संख्या में संघ के स्वयंसेवक मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें:रोक के बावजूद नगर आयुक्त ने लागू कर दी जल संयोजन की नयी नियमावली : मेयर

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: