न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

1097 दागी सांसदों व विधायकों पर चल रहे हैं मुकदमे, केंद्र सरकार ने SC को बताया

सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने जानकारी दी है कि 11 राज्यों दागी सांसद व विधायकों पर लंबित 1233 आपराधिक मामलों का मुकदमा विशेष अदालत में चल रहा है.

132

NewDelhi : सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने जानकारी दी है कि 11 राज्यों दागी सांसद व विधायकों पर लंबित 1233 आपराधिक मामलों का मुकदमा विशेष अदालत में चल रहा है.  बताया कि इनमें से 136 मामलों का निपटारा हो गया है.  लंबित मामलों की संख्या 1097 हैं.  यह जानकारी सरकार ने पिछले माह सुप्रीम कोर्ट को दी है. खबरों के अनुसार कानून मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट में दिये अपने हलफनामे में कहा है कि दागी सांसद व विधायकों के खिलाफ लंबित चल् रहे आपराधिक मुकदमे निपटाटे के लिए गठित 12 स्पेशल कोर्ट में से छह सत्र न्यायालय स्तर के व  पांच मजिस्ट्रेट स्तर के हैं.

mi banner add

इस क्रम में बताया कि दिल्ली में दो, यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु सहित आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में एक-एक स्पेशल कोर्ट का गठन किया जायेगा.  कानून मंत्रालय के अनुसार बाकी राज्यों में जहां सांसद व विधायकों के खिलाफ लंबित मामले 65 से कम हैं, वहां नियमित कोर्ट में फास्टट्रेक के माध्यम से मुकदमे निपटाये जायेंगे. इसे लेकर सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी कर दी गयी है.

से भी पढ़ें : दागी नेताओं के चुनाव लड़ने पर रोक से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

बिहार में सबसे अधिक 249 आपराधिक मामले स्पेशल कोर्ट में ट्रांसफर हुए

कानून मंत्रालय ने सुप्रीम कोर्ट को यह भी बताया कि पटना, कलकत्ता, केरल, कर्नाटक व मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने कहा है कि उनके यहां और स्पेशल कोर्ट की जरूरत नहीं है. लेकिन बांबे हाईकोर्ट ने कहा है कि उनके यहां और स्पेशल कोर्ट की जरुरत बतायी है. कहा कि  इलाहाबाद, मद्रास और हैदराबाद हाईकोर्ट ने इस संबंध में अब तक कोई जानकारी नहीं दी है. दिल्ली हाईकोर्ट ने यह मामला सरकार  पर छोड़ दिया है. कानून मंत्रालय ने बताया है कि  बिहार में सबसे अधिक 249 आपराधिक मामले स्पेशल कोर्ट में ट्रांसफर हुए हैं. बता दें कि पिछले साल वर्ष एक नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने सरकार और संबंधित अथॉरिटी से दागी 1581 सांसदों व विधायकों के मुकदमों के बारे में को पूछा था.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: