Education & Career

चार साल में सीयूजे से 1080 स्टूडेंट्स ने की वोकेशल कोर्स की पढ़ाई, मात्र 218 को ही मिली नौकरी

Ranchi: सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ झारखंड से वोकेशनल विषयों की पढ़ाई करनेवाले विद्यार्थियों को कैंपस सेलेक्शन से नौकरी मिलने में परेशानी आ रही है. प्लेसमेंट के आंकड़ों को देखें तो पढ़ाई करनेवा हर 5 छात्रों में से मात्र एक को ही प्लेसमेंट मिला है. वैसे तो यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर देश-विदेश की तमाम बड़ी कंपनियों के कैंपस सेलेक्शन में आने की जानकारी है, पर उसके ठीक उलट नौकरी मिलनेवाले छात्रों की संख्या पढ़ाई की गुणवत्ता को लेकर सवाल खड़ा कर रही है. आंकड़ों की मानें तो चार शैक्षणिक सत्र पूरा करनेवाले 1080 स्टूडेंट्स में से 218 का ही प्लेसमेंट कैंपस सेलेक्शन में हो पाया है.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ें – कॉग्निजेंट और कर्मचारियों की कर सकती है छंटनी, नये लोगों की नहीं हो रही ज्वाइनिंग

मास्टर स्तरीय नौ कोर्स की होती है पढ़ाई

सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ झारखंड की वेबसाइट पर दिये गये प्लेसमेंट के आंकड़े वोकेशनल कोर्स के हैं. विवि में वोकेशनल के नौ कोर्स चलाये जाते हैं. ये सभी नौ वोकेशनल कोर्स मास्टर स्तर के हैं. इनमें से पढ़ कर निकले विद्यार्थियों को प्लेसमेंट के लिए सोचना पड़ रहा है. शैक्षणिक सत्र 2014 से 2017 तक यूनिवर्सिटी की ओर से मात्र 218 छात्रों को ही प्लेसमेंट मिला है.

ये हैं नौ वोकेशनल कोर्स

विवि में जो नौ मास्टर स्तरीय वोकेशनल कोर्स चलाये जा रहे हैं उनमें एनर्जी इंजीनियरिंग, बिजनेस मैनेजमेंट, इंडीजीनिस स्टडीज, म्यूजिक और परफार्मिंग आर्ट, लाइफ साइंस, मास कम्यूनिकेशन, वाटर इंजीनियरिंग, अप्लाईड मैथेमेटिक्स और ट्राइबल और कस्टमरी लॉ आदि हैं. बिजनेस मैनेजमेंट को छोड़ सभी कोर्स में प्रत्येक सत्र में 30-30 सीट हैं. केवल बिजनेस मैनेजमेंट में प्रत्येक सत्र के लिए 60 सीटें है. लेकिन अन्य कोर्स में तीस सीट होने के बाद भी यहां मिलनेवाले प्लेसमेंट की संख्या काफी कम है.

Samford

वेबसाइट में नहीं है सही जानकारी

यूनिवर्सिटी की वेबसाइट में प्लेसमेंट की सही जानकारी नहीं दी गयी है. छात्रों को मिलने वाले प्लसेमेंट पैकेज की भी जानकारी वेबसाइट में नहीं है. कुछ विषयों में प्लेसमेंट और पैकेज की जानकारी नहीं है. जिनमें एनर्जी इंजीनियरिंग, लाइफ साइंस, मास कम्युनिकेशन, अप्लाईड मैथेमेटिक्स, ट्राइबल और कस्टमरी लॉ हैं. वहीं बिजनेस मैनेजमेंट में 1.8 से 7.8 लाख, इंडीजीनिस स्टडीज में एक लाख से आठ लाख तक, म्यूजिक और परफार्मिंग आर्ट में 2.4 से 3.4 लाख, वाटर इंजीनियरिंग में 1.9 से 9.4 लाख का सालाना पैकेज है.

बड़ी-बड़ी कंपनियों के हैं नाम

वेबसाइट पर जो जानकारी दी गयी है उसमें जिन कंपनियों में नौकरी देने की बात कही गयी है, वे सारी कंपनियां बड़े-बड़े नाम वाली हैं. इसमें सीड, कोटक महिंद्रा, एचडीएफसी बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, उज्जीवन फाइनेंसियल सर्विस, ईएलआइ रिर्सच नई दिल्ली, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन आदि हैं.

इसे भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीरः कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर को लिया गया हिरासत में, चिदंबरम ने कहा गैरकानूनी 

ऐसा है प्लेसमेंट का आंकड़ा

कोर्स 2014 2015 2016 2017 कुल प्लेसमेंट
एंर्जी इंजीनियरिंग 00 00 00 00 27
बिजनेस मैनेजमेंट 12 9 25 13 59
इंडीजीनियस स्टडीज 00 00 00 00 10
म्यूजिक और परफार्मिंग आर्ट 00 00 00 00 8
लाइफ साइंस 2 10 3 1 16
मास कम्यूनिकेशन 19 10 7 13 59
वाटर इंजीनियरिंग 0     6 12 6 24
अप्लाईड मैथेमेटिक्स 0 0 2 1 3
ट्राइबल और कस्टमरी लॉ 0 5 4 3 12

इसे भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीर   :  जम्मू  में 2जी इंटरनेट और घाटी में लैंडलाइन सेवा चालू, प्राइमरी स्कूल सोमवार से खुलेंगे

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: