न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

100 वामपंथी संगठन मोदी सरकार के खिलाफ सभी राज्यों की राजधानियों में करेंगे प्रदर्शन

15

New Delhi : केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ वामपंथी पार्टियों से संबद्ध में 100 संगठन सभी राज्यों की राजधानियों में 23 मई को विरोध प्रदर्शन करेंगे. व्यापारी संगठनों की शीर्ष इकाई जन एकता जन अधिकार आंदोलन( जेईजेएए), किसान संगठन, कृषि श्रमिक, राज्य और केंद्र सरकार के कर्मचारी, बैंक और बीमा कर्मी, कॉलेज एवं विश्वविद्यालय के शिक्षक, छात्र, महिला, दलित, आदिवासी और पर्यावरणविद 23 मई को विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे.

इसे भी पढ़ें- पीएनबी धोखाधड़ी मामला : केन्द्र ने कोर्ट को बताया, अदालतों द्वारा कोई समानांतर जांच नहीं हो सकती

विरोध प्रदर्शन के दिन कई तरह के अभियान किए जाएंगे शुरू

समन्वय समिति के सदस्य हन्नान मोल्ला ने बताया कि किसानों, श्रमिकों और अन्य वर्गों के संघर्ष को आगे ले जाते हुए जेईजेएए ने केंद्र सरकार में राजग के चार साल पूरा होने के मौके पर प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है. मोल्ला ने कहा कि 23 मई को जेईजेएए दिल्ली सहित अन्य राज्य की राजधानियों में लोगों को जुटाकर विरोध प्रदर्शन करेगा. उन्होंने कहा कि विरोध प्रदर्शन के दिन कई तरह के अभियान शुरू किए जाएंगे. इन अभियानों का लक्ष्य सरकार को उसक  विध्वसंक नीतियों के प्रभावों और देश के लोगों खास तौर पर महिलाओं एवं युवाओं से झूठे वादे करके उन्हें धोखा देने के लिए जिम्मेदार ठहराना है.

इसे भी पढ़ें- चुनाव आयोग ने राज्य सरकार से फिर कहा, एडीजी अनुराग गुप्ता और मुख्य मंत्री के प्रेस सलाहकार अजय कुमार पर दर्ज करें प्राथमिकी

नेताओं का मानना- सिर्फ वामपंथी संगठन ही भाजपा सरकार के खिलाफ लोगों को कर सकते हैं लामबंद

अखिल भारतीय किसान सभा के मुंबई मार्च की सफलता के बाद नेताओं को ऐसा लगता है कि सिर्फ वामपंथी संगठन ही भाजपा सरकार के खिलाफ लोगों को लामबंद कर सकते हैं. अखिल भारतीय किसान सभा भी जेईजेएए का हिस्सा है. समन्वय समिति के सदस्य पी कृष्णप्रसाद ने कहा कि हमने महाराष्ट्र में किसानों के मार्च के दौरान देखा था कि हम वामपंथी संगठन ही मोदी सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज उठा सकते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: