न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

100 नहीं 200 फीसदी सफल होगी 5 जुलाई की बंदी: हेमंत सोरेन

707

Ranchi: भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक का विरोध विपक्ष लगातार कर रहा है. वही इसे लेकर नेता प्रतिपक्ष और झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास पर तमाम विपक्षी दलों और सामाजिक संगठनों की बैठक हुई. बैठक के बाद नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने कहा कि पूरे विपक्ष और सामाजिक संगठन के साथ पांच जुलाई की बंदी को लेकर समीक्षा की गयी है. उन्होंने कहा कि राज्य से जुड़ी ज्वलंत विषयों पर जिस तरह से राज्य सरकार जनविरोधी निर्णय ले रही है इसके विरोध में सभी लोगों ने अपनी बातों को रखा. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि समन्वय समिति ने यह निर्णय लिया है कि राज्य के ज्वलंत विषयों के समाधान के लिए सब लोग मिलकर समस्याओं की जानकारी लेंगे. उन्होंने कहा कि 5 जुलाई की बंदी में पूरे संगठन के लोग अपने-अपने स्तर से पूरे राज्य में लगे हुए हैं. सभी लोग समन्वय के साथ काम में लगकर इस बंदी को सफल बनाएंगे. 24 घंटे की बंदी, इस बार 200 प्रतिशत सफल होगी, क्योंकि रघुवर सरकार ने राज्य की जनता पर काला कानून थोपने का काम किया है.

इसे भी पढ़ेंःहेमंत सोरेन के आवास पर दिखी विपक्षी एकजुटता, 5 जुलाई को महाबंद सफल बनाने का हुआ आह्वान

5जुलाई के बाद खूंटी जाएगी समन्वय समिति की टीम

भूमि अधिग्रहण विधेयक की लड़ाई राजनीतिक दल, सामाजिक संगठन और राज्य की जनता मिलकर लड़ेगी. हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार को राज्य की जन भावनाओं से अवगत कराएंगे. वही उन्होंने कहा कि खूंटी जिले में जो घटनाएं घट रही हैं उस विषय पर भी चर्चा समन्वय समिति में हुई. और यह निर्णय लिया गया है कि बंदी के बाद समन्वय समिति की एक टीम बनाई जाएगी और यह टीम खूंटी के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर मौजूदा हालात की जानकारी लेगी. वहां छात्राओं के साथ जो घटना घटी है इसकी विस्तृत जानकारी लेगी. सरकार यहां के आदिवासी बहुल क्षेत्र के गरीबों के ऊपर दुराचार कर रही है. पूरा विपक्ष यहां के गरीब, किसान और आदिवासी के साथ खड़ा है. उनके लड़ाई में हम भी शरीक होंगे.

कड़े कानून की वजह से बची है झारखंड की जमीन

नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने कहा कि पिछले चार साल में राज्य सरकार ने यहां की जमीन लेने की पूरी कोशिश की. गनीमत है कि राज्य में कई कड़े कानून का प्रावधान है. राज्य की जनता ने सरकार को मुंहतोड़ जवाब दिया था. भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक के आने से जमीन की लूट होगी.

विद्यालय के लिए जमीन लेने की बात करने वालों ने पांच हजार स्कूलों को बंद कर दिया

इधर कांग्रेस विधायक सुखदेव भगत ने कहा कि विद्यालय के लिए जमीन लेने वालों ने पांच हजार स्कूलों को ही बंद कर दिया. जब उन्हें स्कूल बंद करना था तो फिर जमीन किसलिए चाहिए. उन्होंने कहा कि सरकार को बिजली के लिए भी जमीन चाहिए,  क्या ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने कभी शिकायत की है कि हमें बिजली के लिए पोल लगाने में कभी दिक्कत हुई है,  तो जमीन किसलिए चाहिए इस सवाल का जवाब सरकार दे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Posts

BOI में घुसे चोर, कैश वोल्ट तोड़ने की कोशिश नाकाम, कुछ सिक्के ले भागे

बैंक के आमाघाटा ब्रांच की घटना, मुख्य दरवाजा तोड़कर अंदर घुसे चोर, ग्रिल भी तोड़ा

mi banner add

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: