न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आफत बनी बारिश : वर्षाजनित हादसों में 10 लोग मरे, नदियां उफान पर 

खैरागढ़ (आगरा) में सबसे ज्यादा 10 सेंटीमीटर वर्षा रिकार्ड की गयी.

148

Lucknow: उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में पिछले कई दिनों से रुक-रुक कर बारिश होने का सिलसिला जारी है और पिछले 24 घंटों के दौरान वर्षाजनित हादसों में 10 लोगों की मौत हो गयी. जलभरण क्षेत्रों में खासी वर्षा होने से गंगा, घाघरा और शारदा समेत अनेक नदियां उफान पर हैं.
प्रदेश के राहत आयुक्त संजय कुमार ने आज बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान वज्रपात तथा बारिश के कारण मकान या दीवार गिरने इत्यादि हादसों में कुल 10 लोगों की मौत हो गयी. इनमें झांसी में चार, इटावा में दो तथा फिरोजाबाद, रायबरेली, औरैया और शामली में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है. इन हादसों के कारण 116 घरों को भी नुकसान पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें – जानें कैसे प्रभार में चल रहा सरकारी तंत्र

मानसून पूरी तरह  है सक्रिय

hosp3

आंचलिक मौसम विज्ञान केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रदेश में दक्षिण-पश्चिमी मानसून पूरी तरह सक्रिय है. पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश में अनेक स्थानों पर वर्षा हुई. कुछ स्थानों पर भारी बारिश भी हुई.
इस दौरान खैरागढ़ (आगरा) में सबसे ज्यादा 10 सेंटीमीटर वर्षा रिकार्ड की गयी. इसके अलावा फतेहपुर (बाराबंकी) और अकबरपुर (अम्बेडकर नगर) में नौ-नौ, रॉबर्ट्सगंज (सोनभद्र) तथा राजघाट (वाराणसी) में आठ-आठ सेमी, बिजनौर में सात सेमी, सफीपुर (उन्नाव), चुर्क (सोनभद्र), सलेमपुर (देवरिया) तथा मवाना (मेरठ) में छह-छह सेमी और हैदरगढ़ (बाराबंकी) और मुजफ्फरनगर में पांच-पांच सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गयी.
बारिश के कारण प्रदेश के ज्यादातर मण्डलों में अधिकतम तापमान में भी खासी गिरावट आयी है. पिछले 24 घंटों के दौरान आगरा, झांसी, मेरठ, कानपुर, लखनऊ तथा मुरादाबाद मण्डलों में दिन का तापमान सामान्य से काफी नीचे दर्ज किया गया. अगले 24 घंटों के दौरान भी प्रदेश के पूर्वी भागों में ज्यादातर स्थानों पर तथा पश्चिमी हिस्सों में अनेक जगहों पर बारिश होने का अनुमान है.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : टोटल फेल्योर एसएसपी चोथे पर मेहरबानी…क्या वजह हो सकती है

कई नदियां उफान पर

केन्द्रीय जल आयोग की रिपोर्ट के अनुसार, जलभरण क्षेत्रों में व्यापक वर्षा की वजह से प्रदेश में गंगा, घाघरा, शारदा और रामगंगा समेत अनेक नदियां उफान पर हैं. इसकी वजह से राज्य के विभिन्न स्थानों पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है.

इसे भी पढ़ें – देखिये रिम्स के जूनि. डॉ. की दबंगई ! जल्दी इलाज की बात पर कैसे परिजन को पीटकर खदेड़ा
गंगा नदी नरौरा, अंकिनघाट और फर्रुखाबाद में खतरे के निशान के ऊपर बह रही है. वहीं, कानपुर, गुमटिया, बलिया तथा डलमऊ में इसका जलस्तर लाल निशान के नजदीक बना हुआ है. रामगंगा नदी डाबरी में खतरे के चिह्न को पार गयी है, जबकि मुरादाबाद में यह इस निशान के करीब पहुंच चुकी है.
घाघरा नदी एल्गिनब्रिज, तुर्तीपार और अयोध्या में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. शारदा नदी का जलस्तर पलियाकलां में लाल चिह्न के पार बना हुआ है. वहीं शारदानगर में यह इस निशान के करीब पहुंच चुका है. क्वानो नदी चंद्रदीपघाट में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: