Uncategorized

शीर्ष अदालत ने नकदी संकट पर सरकार से जानकारी मांगी

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय ने सरकार से मंगलवार को बैंकों और एटीएम के बाहर मची अफरातफरी की स्थिति से निपटने के लिए अब तक उठाए गए या उठाए जाने वाले संभावित कदमों के बारे में जानकारी मांगी। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति टी.एस.ठाकुर और न्यायमूर्ति डी.वाई.चंद्रचूड़ की पीठ ने केंद्र सरकार को औपचारिक नोटिस जारी किए बिना जवाब पेश करने को निर्देश दिया और कहा कि न्यायालय सरकार की नीति में हस्तक्षेप नहीं करेगा।

याचिकाकर्ता की ओर से अदालत में पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने नोटबंदी को आम लोगों के खिलाफ ‘सर्जिकल कार्रवाई’ बताया।

लोगों की कठिनाइयों और अमान्य नोटों के संबंध में कानूनी प्रावधानों का उल्लेख करते हुए सिब्बल ने कहा, “आप कालाधन के खिलाफ ‘सर्जिकल कार्रवाई’ कर सकते हैं, लेकिन आम जनता के खिलाफ आप ‘सर्जिकल कार्रवाई’ नहीं कर सकते।”

ram janam hospital
Catalyst IAS

नोटबंदी के सरकार के फैसले पर स्थगन नहीं चाहने की मंशा जाहिर करते हुए सिब्बल ने कहा, “हम कालाधन पर रोक लगाने में सरकार के साथ हैं, लेकिन लोगों को जो कठिनाई हो रही है, वह जायज नहीं है। यह उनके जीवन को खतरे में डाल रहा है।”

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

सरकार के फैसले को विधि सम्मत बताते हुए महान्यायवादी मुकुल रोहतगी ने स्वीकार किया कि इस तरह के सरकार के किसी फैसले से कुछ दर्द होगा, लेकिन उन्होंने अदालत से इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करने का अनुरोध किया, क्योंकि ये मामले आर्थिक नीति से संबंधित हैं।

इस पर मुख्य न्यायमूर्ति टी.एस.ठाकुर ने कहा, “हम आपके नीतिगत मामले में हस्तक्षेप नहीं कर रहे हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button