Uncategorized

विभाग उपलब्ध कराएगा बाल श्रमिक स्कूलों को भवन

News Wing

Sahebganj, 11September:  बाल श्रमिक स्कूलों को स्कूल भवन उपलब्ध कराना कवायदा शुरू किया जा रहा है. इसके लिये विभिन्न प्रखंडों मे खाली पड़े विद्यालय भवन को सुचीवध करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है.

बेकार पड़े भवन को पुनर्वास समिति को सौपने की तैयारी

Catalyst IAS
SIP abacus

दरसल शिक्षा सचिव के निर्देश पर पिछले साल जिले के 61 वैसे प्राथमिक स्कूल बगल के अन्य स्कूलो में मर्ज कर दिया गया जहाँ बच्चो की संख्या नग्न थी. ऐसे में उक्त स्कूलों के लिये बने भवन बेकार पड़े हुये है. खाली पड़े स्कूल भवन उपयोगी बन सके इसके लिये शिक्षा विभाग ने उसमे बाल श्रमिक स्कूलो की संचालन के लिये इसकी सूची बाल श्रमिक पुनर्वास समिति को सौपने की तैयारी की जा रही है. इसके लिये उपायुक्त की अनुमति मिलते ही स्कूल भवन बाल श्रमिक पुनर्वास समिति को सौपी जायेगी ताकि भवनहीन बाल श्रमिक विद्यालय स्कूल को सुचारु रुप चलाया जा सके.

MDLM
Sanjeevani

पंचायत भवन मे संचालित है बाल श्रमिक स्कूल
मार्च 2017 तक जिले मे 50 बाल श्रमिक स्कूल संचालित थे, जिन्हे फिलहाल बाल श्रमिको के सर्वे के नाम पर अप्रैल माह से बंदकर रखा गया है. हालांकि सर्वे कार्य पूर्ण कर बाल श्रमिक पुनर्वास समिति जल्द ही दोबारा स्कूल शुरू करने की तैयारी कर रही है. बाल श्रमिक स्कूलों को पंचायत भवन में संचालित करने का आदेश उस समय के तत्कालीन उपायुक्त अशोक शर्मा ने दिया था. इसके वाबजूद भी जिले के 22 बाल श्रमिक स्कूल विभिन्न प्रखंडों मे भाडे़ के मकान मे या अन्य सरकारी भवन मे संचालित है. इसमे साहेबगंज प्रखंड मे संचालित 4 में से केवल 1 स्कूल पंचायत भवन में संचालित रहा. वही तालझाडी प्रखंड मे 3 में से 1 ,राजमहल प्रखंड 21में से 8 ,बरहरवा में 4 में से एक व बोरियों मे 3 में से 2 बाल श्रमिक स्कूल पंचायत भवन में संचालित होता रहा है. वही उधवा मे सभी 12 स्कूल पंचायत भवन में ही संचालित होते रहे है. इस बार बाल श्रमिक पुनर्वास समिति ने सभी प्रखंडों के बीडीओ से बाल श्रमिक स्कूल संचालन के लिये पंचायतों की उपलब्धता की रिपोर्ट माँगी है. समिति का कहना है कि पंचायत भवन की उपलब्धता के आधार पर ही बाल श्रमिक स्कूल दोबारा संचालन पर निर्णय लिया जायेगा. ऐसे में शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालय के लिये 61 खाली भवन उपलब्ध कराने की योजना से जिले के बाल श्रमिक स्कूलों के संचालन का रस्ता साफ हो जायेगा.

क्या कहते हे जिला शिक्षा पदाधिकारी
डीएसई जय गोविंद सिंह ने कहाँ की बाल श्रमिक पुनर्वास समिति से स्कूल के खाली भवन को उपलब्ध कराने की आग्रह प्राप्त हुआ हे।पिछले साल कम बच्चो वाले की संख्या वाले मर्ज हुऐ स्कूलो के खाली भवन को उपायुक्त से आदेश मिलने के बाद बाल श्रमिक पुनर्वास समिति को उपलब्ध कराया जा सकता हे,ताकी वहाँ भवनहीन बाल श्रमिक स्कूल संचालित किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button