Uncategorized

लो प्रोफाईल कंपनी को नगर निगम ने दे दिया सीवरेज-ड्रेनेज का काम, अब भुगत रही जनता

Satya Sharan Mishra

Ranchi, 2 September: राजधानी को स्मार्ट बनाने के लिए और लोगों की सुविधाओं को बढ़ाने के लिए सीवरेज-ड्रेनेज का काम शुरू किया गया, लेकिन अब यह सीवरेज-ड्रेनेज राजधानीवासियों के लिए नासूर बन गया है. राजधानी की सड़कों, गली-मुहल्लों में सीवरेज-ड्रेनेज के लिए खोदे गये गड्ढ़े राजधानी के चेहरे पर बदनुमा दाग की तरह राजधानी की खूबसूरती को भी खराब कर रहा है. सीवरेज-ड्रेनेज बनाने के नाम पर सभी सड़कों में गड्ढे खोदकर छोड़ दिया गया है. कई जगहों पर सड़कों को काट दिया गया है. बरसात में यह गड्ढ़े हादसे का कारण बन रहे हैं. जिन वार्डों में सीवरेज-ड्रेनेज का काम चल रहा है वहां के पार्षद सबसे ज्यादा परेशान हैं. वार्ड की जनता को जवाब देते-देते वे थक चुके हैं. इस लेकर पार्षद कई बार निगम की बैठकों में हंगामा कर चुके हैं. उनका कहना है कि जब कंपनी काम करने में सक्षम नहीं तो फिर निगम ने उसे काम क्यों दिया.

ज्योति बिल्डटेक को आखिर बार-बार क्यों मिल जा रहा एक्सटेंशन

advt

नगर निगम ने सीवरेज-ड्रेनेज का काम करने वाली कंपनी ज्योति बिल्डटेक को 15 सितंबर तक काम पूरा करने का निर्देश दिया था. इसी बीच कंपनी को नगर विकास विभाग से एक्सटेंशन मिल गया. अब कंपनी को राजधानी के जोन वन में बजरा से रातू रोड होते हुए बड़गाईं तक बन रहे सीवरेज-ड्रेनेज प्रोजेक्ट को छह माह में पूरा करना है. फरवरी 2018 तक कंपनी को 230 किमी लंबा सीवरेज और 100 किमी ड्रेनेज बनाना है. नगर विकास विभाग ने कंपनी को यह आखिरी मौका दिया है. कंपनी को चेतावनी दी गयी है कि अगर 6 महीने में काम पूरा नहीं हुआ तो उसकी सिक्योरिटी मनी को जब्त करते हुए उसे ब्लैक लिस्टेड किया जायेगा.
 

24 महीने में सिर्फ 49 किमी सीवर लाइन ही बिछा सकी कंपनी

adv

ज्योति बिल्डटेक कंपनी को 24 माह में 280 किमी सीवरेज और 100 किमी ड्रेनेज बनाना था, लेकिन दो साल में कंपनी ने मात्र 49 किलोमीटर ही सीवर लाइन बिछाई. ड्रेनेज का काम अभी शुरू भी नहीं हुआ है. फेज वन के तहत बजरा, आईटीआई बस स्टैंड के पीछे, पंचशील नगर, पंडरा रोड, लक्ष्मी नगर, आर्यपुरी, इंद्रपुरी, मेट्रो गली, कांके रोड, मोरहाबादी में सीवर लाइन बिछाई गई है. कंपनी को पूरे शहर में 1500 मेनहोल लगाना है, लेकिन अबतक कंपनी ने मात्र 750 ही लगाया है.

सुंदर बनाने निकले थे, शहर को कर दिया बदसूरत

सीवरेज-ड्रेनेज के नाम पर नगर निगम अबतक करोड़ों रुपये खर्च कर चुका है, लेकिन शहर सुंदर होने के बजाये और बदसूरत होता जा रहा है. इसमें पूरी की पूरी गलती काम करने वाली कंपनी की है. कंपनी को निर्देश दिया गया था कि जिन जगहों पर पाइप बिछा दिया जाये वहां गड्ढे को भरकर पक्की सड़क बना दी जाये, लेकिन कंपनी ने ऐसा कहीं नहीं किया. अब इसका खामियाजा वहां रहने वाली जनता भुगत रही है.  

अच्छी कंपनी को काम देते तो यह सब झेलना नहीं पड़ताः डिप्टी मेयर

रांची नगर निगम के डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने कहा है कि ज्योति बिल्डटेक का काम काफी स्लो है. उन्होंने कहा कि चयन प्रक्रिया अगर तरीके से होती तो शायद आज राजधानी वासियों को यह सब नहीं झेलना पड़ता. डिप्टी मेयर ने कहा कि निगम ने लो प्रोफाईल कंपनी को काम दे दिया है. इसी वजह से समय पर काम नहीं हो पा रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि जनता को भी थोड़ा सहयोग निगम को करना चाहिए. सीवरेज-ड्रेनेज जैसे काम को पूरा होने में थोड़ समय लगता ही है.

 

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: