Uncategorized

राहुल नहीं होंगे पीएम उम्मीदवार, प्रचार का जिम्मा उठायेंगे

नई दिल्ली: कांग्रेस में राहुल गांधी के दौर की शुरूआत अब शायद उस तरह से न हो जैसी उम्मीदें लगाई जा रही थीं। गुरूवार शाम कांग्रेस वर्किग कमेटी की बैठक में ये तकरीबन तय हो गया कि राहुल गांधी पीएम पद के प्रत्याशी के तौर पर प्रोजेक्ट नहीं किए जाएंगे।

कांग्रेस कार्यसमिति ने ऎलान किया कि 2014 के लोकसभा चुनाव राहुल गांधी के नेतृत्व में लडा जाएगा। ये बात कांग्रेस महासचिव जनार्दन दि्ववेदी ने दी। उन्होंनेबताया कि अधिकांश सदस्य चाहते थे कि राहुल को पीएम पद का प्रत्याशी घोषित किया जाए लेकिन आलाकमान इस पक्ष में नहीं था। बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि पार्टी में पीएम पद का नाम पहले से तय करने की परंपरा नहीं है। कहा गया कि कांग्रेस ने कभी भी पहले से किसी को पीएम के तौर पर पेश नहीं किया है तो अब क्यों किया जाए।

सूत्रों का कहना है कि फिलहाल राहुल गांधी को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बनाया जा सकता है। पार्टी प्रवक्ता जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि प्रस्ताव के बारे में फिलहाल कुछ भी कहा नहीं जा सकता है।गौरतलब है कि पार्टी में तमाम नेता ऐसे हैं जो यह मांग लगातार कर रहे हैं कि पार्टी में राहुल गांधी को अब पीएम उम्मीदवार बनाया जाना चाहिए।पार्टी के कुछ नेताओं का कहना है कि पार्टी ने 2009 के चुनाव को छोड़कर कभी भी किसी भी उम्मीदवार को पीएम पद का प्रत्याशी नहीं बनाया था। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि पार्टी को इस चुनाव में जीत की उम्मीद नहीं दिखाई दे रही है। ऐसे में राहुल गांधी का नाम घोषित करना सही नहीं है। अगर विपक्षी पार्टी ने प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया है तो जरूरी नहीं कि कांग्रेस भी ऎसा करे।

ram janam hospital
Catalyst IAS

द्विवेदी ने कहाकि राहुल गांधी खुद प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनना नहीं चाहते थे और पार्टी में काम करने की इच्छा जताई थी। प्रेस कांफ्रेंस में द्विवेदी ने कहाकि,”वह कांग्रेस के भविष्य के नेता हैं। सोनिया ने कहाकि अगला चुनाव राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा।द्विवेदी ने कहा कि पार्टी में सोनिया के बाद राहुल गांधी दूसरे नंबर पर होंगे। उन्होंने कहा कि अगले आम चुनाव में राहुल गांधी कांग्रेस के प्रचार अभियान की कमान संभालेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित करने की जरूरत नहीं है।

The Royal’s
Sanjeevani

इससे पहले पार्टी सूत्रों ने बताया था कि बैठक में प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के रूप में नाम पेश किए जाने के बारे में विभिन्न सुझावों पर भी विचार किया जाना है।पार्टी सूत्रों ने कहा था कि पार्टी का एक धड़ा प्रधानमंत्री प्रत्याशी पेश किए जाने के पक्ष में है, जबकि दूसरे समूह को इस तरह के कदम पर आपत्ति है।सूत्रों ने कहा कि जो लोग राहुल को प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित किए जाने पर जोर दे रहे हैं उनका मानना है कि इसे पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ेगा।

ऐसे नेताओं का मानना है कि भारतीय जनता पार्टी के नरेंद्र मोदी और आम आदमी पार्टी की ओर से अरविंद केजरीवाल को चुनावी चेहरा बनाए जाने की सूरत में कांग्रेस को ‘छवि विहीन’ होकर नहीं उतरना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button