Uncategorized

राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में प्रणब मुखर्जी को निमंत्रण नहीं, आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का साइड इफेक्‍ट!  

Ad
advt

 NewDelhi  :  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी ताज पैलेस होटल में 13 जून को है. खबरों के अनुसार कांग्रेस की इस इफ्तार पार्टी में देश भर के विपक्षी नेताओं को निमंत्रण भेजा गया है. लेकिन इसमें एक महत्‍वपूर्ण नाम मिसिंग है. जानकारी के अनुसार पूर्व राष्ट्रपति और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी को इफ्तार पार्टी का निमंत्रण नहीं दिया गया है. प्रणब मुखर्जी को निमंत्रण नहीं भेजे जाने की चर्चा दिल्‍़ली के राजनीतिक गलियारों में तूल पकड़ रही है. चैनल टाइम्स नाउ के अनुसार कांग्रेस की इफ्तार पार्टी का न्योता प्रणब मुखर्जी तक नहीं पहुंचा है. बता दें कि प्रणब मुखर्जी सात जून को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ  के नागपुर में आयोजत तृतीय वर्ष कार्यक्रम में शामिल हुए थे. इस बात से नाराज कांग्रेस के कई नेताओं ने पूर्व राष्ट्रपति की आलोचना भी की थी. आमंत्रित लोगों में उन सभी बड़े राजनेताओं और पार्टियों के नाम शामिल हैं जिन्हें इस साल की शुरुआत में सोनिया गांधी के भव्य रात्रिभोज के लिए बुलाया गया था. उस रात्रिभोज को नरेंद्र मोदी और अमित शाह की अगुवाई वाली भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर एक विपक्षी महागठबंधनबनाने की कोशिश के रूप में देखा गया था. निमंत्रित लोगों की सूची से पूर्व उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी का नाम भी नहीं है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल या उनकी आम आदमी पार्टी का नाम भी इस इफ्तार पार्टी के आमंत्रित लोगों की सूची में शामिल नहीं है. 

इसे भी पढ़ें  :  राजीव गांधी हत्याकांड : नौ वोल्ट की बैटरी खरीदकर देने के आरोपी पेरारीवलान ने आज जेल में पूरे किये 27 साल

advt

  मोहन भागवत का न्योता स्वीकार करते ही प्रणब मुखर्जी कांग्रेस के निशाने पर आ गये थे

प्रणब द्वारा संघ प्रमुख मोहन भागवत का न्योता स्वीकार करने के तुरंत बाद ही पूर्व राष्ट्रपति अपनी ही पार्टी के नेताओं के निशाने पर आ गये थे. हालांकि राष्ट्रवाद और देशभक्ति  पर प्रणब मुखर्जी के संबोधन के बाद कांग्रेस ने कहा था कि पूर्व राष्ट्रपति ने संघ को सच्चाई का आईना दिखाया है और पीएम मोदी को राजधर्म की सीख दी है. बता दें कि  राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी से पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष रहने के दौरान सोनिया गांधी  ने 2015 में इफ्तार का आयोजन किया था. अब दो साल बाद एक बार फिर कांग्रेस पार्टी इफ्तार का आयोजन करने जा रही है. पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ पर इफ्तार के आयोजन की जिम्मेदारी है. इस संबंध में कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष नदीम जावेद ने बताया था कि राहुल गांधी इसकी मेजबानी करेंगे. प्रणब मुखर्जी को इफ्तार पार्टी में नहीं बुलाया जाना आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का साइड इफेक्‍ट कहा जा रहा है.  

advt

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.  

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: