Uncategorized

रांची : रिम्स की छत को भीगने से बचा रहा करोड़ों की लागत से लगा सोलर प्लांट, पड़ा बेकार

Saurabh Shukla

Ranchi : राज्य का सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में पांच करोड़ की लागत से लगा सोलर पैनल करीब 170 दिन चलने के बाद खराब हो गया. नौ महीने बीत जाने के बाद भी अब तक सोलर पैनल की मरम्मत नहीं की गयी है. लिहाजा रिम्स अस्पताल की छत पर लगी सभी सोलर पैनलों में जंग लगने लगा है.

इसे भी पढ़ें- ट्रांसपोर्टर ने 153 ट्रक कोयला साइडिंग तक पहुंचाने के बजाय गम्हरिया की कंपनी को बेचा

ram janam hospital
Catalyst IAS

मुख्यमंत्री ने किया था उद्घाटन

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

रिम्स में 400 किलोवाट के ग्रिड कनेक्टेड रूफटॉप सोलर पावर प्लांट का उद्घाटन आठ फरवरी 2017 को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने किया था. लेकिन देखरेख के अभाव के कारण सोलर प्लांट सालभर भी नहीं चल सका. इस 400 किलोवाट सोलर ग्रिड स्टेशन से रिम्स के इमरजेंसी, ऑर्थो, न्यूरो, ब्लड बैंक समेत विभिन्न वार्डो की रौशनी पहुंचाने की योजना थी. लेकिन 25 जुलाई को आयी भारी बारिश और रिम्स प्रशासन की लापरवाही ने पांच करोड़ की लागत से बने सोलर प्लांट को बेकार कर दिया है.

इसे भी पढ़ें- कहीं आपका ड्राइविंग लाइसेंस भी नकली तो नहीं, देश के 30 प्रतिशत लाइसेंस नकली होने की संभावना

सोलर प्लांट कंट्रोल रूम में पानी घुसने से खराब हुई मशीनें

रिम्स प्रबंधन के द्वारा सोलर प्लांट  कंट्रोल रूम के लिए जो जगह दिया गया, वहां बारिश का पानी घुस जाने के कारण कंट्रोल रूम में रखी मशीने  खराब हो गयीं थी. मशीन के मरम्मत हो जाने के बाद मामला दूसरे रूम में शिफ्ट करने को लेकर अटक गया है. दोबारा सोलर प्लांट को शुरू करने के लिए कंट्रोल रूम को दुसरे रूम में सिफ्ट करना होगा. तभी सोलर प्लांट फिर से शुरू हो सकेगा.

इसे भी पढ़ें- PNB घोटाले को लेकर ICICI बैंक की CEO चंदा कोचर को सीबीआई ने पूछताछ के लिये बुलाया, AXIS बैंक को नोटिस

अंधेरा छा जाने का रहता है डर

गौरतलब है कि रिम्स में बिजली कट जाने पर कई विभागों में अंधेरा छा जाता है. वहीं सोलर प्लांट के सुचारू रूप से चलने पर वार्ड में अंधेरे समेत कई अन्य समस्या नहीं होती. साथ ही अस्पताल आने वाले मरीजों को सोलर से मिलने वाली बिजली का लाभ भी मिल पाता. सोलर प्लांट का मरम्मत नहीं होने के कारण कई सोलर प्लेटों में जंग भी लग चुका है.

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने दो बसों में लगायी आग, एक व्यक्ति की हत्या की

नौ महीने से खराब पड़ा है सोलर पैनल

रिम्स मे पांच करोड़ की लागत से लगे सोलर प्लांट पिछले नौ महीने से रूम नहीं मिलने के विवाद के कारण खराब पड़ा है. सोलर प्लांट का पैनल बारिश के समय छत को पानी में भीगने से बचा रहा है. हालांकि  रिम्स प्रशासन का कहना है कि सोलर प्लांट लगाने वाली कंपनी ज्रेडा से सोलर प्लांट की शिफ्टिंग का विवाद सुलझा लिया गया है. जल्द ही सोलर प्लांट के लिए कंट्रोल रूम बन कर तैयार हो जायेगा. और दोबारा सोलर प्लांट की रौशन से रिम्स परिसर जगमगा उठेगी.

इसे भी पढ़ें- सरकार ने बनाया झारखंड लॉ अॉफिसर इंगेजमेंट रुल – 2018, इसपर उठ रहे हैं सवाल, कई एपीपी ने इस्तीफा भी दिया

पांच करोड़ रुपये के सोलर प्लांट से मात्र 170 दिन हुआ उजाला

पांच करोड़ की लागत से बना सोलर प्लांट करीब 170 दिन ही चल पाया. इसके बाद कंट्रोल रूम पानी और रिम्स प्रशासन की लापरवाही के कारण सोलर प्लांट खराब पड़ा हुआ है. इस विषय में रिम्स प्रशासन ज्रेडा के साथ पिछले छह माह से बात ही कर रहा है. लेकिन खराब पड़े सोलर प्लांट की व्यवस्था को अब तक दुरुस्त नहीं किया जा सका है.

इसे भी पढ़ें- पानी में गला 32 करोड़ रुपये का सरकारी नमक, लोग मवेशियों को भी खिलाने को तैयार नहीं, सप्लाई करने वाले हो गये मालामाल

आखिर क्यों नहीं हुआ मरम्मत

करोड़ो रुपये की लागत से 400 किलोवाट सोलर की क्षमता वाली सोलर पैनल ज्रेडा और रिम्स प्रशासन की धीमी सवाल-जबाब की प्रक्रिया भेंट चढ़ चुका है. ज्रेडा ने रिम्स प्रशासन से सोलर कंट्रोल रूम मुहैया कराने की मांग की थी. जिस पर रिम्स प्रशासन ने नये कंट्रोल रूम निर्माण की राशि की मांग भवन निर्माण विभाग से की थी. रिम्स प्रशासन और ज्रेडा के द्वारा धीमी गति से कार्य करने के कारण ही अबतक सोलर कंट्रोल रूम नहीं खुल पाया है.

इसे भी पढ़ें- बुौद्ध और मुस्लिम समाज के बीच सांप्रदायिक तनाव व मसजिदों पर हमले के बाद श्रीलंका में 10 दिन के लिए आपातकाल

जल्द शुरू होगा सोलर प्लांट

वहीं बंद पड़े सोलर प्लांट के विषय में रिम्स निदेशक डॉ आरके श्रीवास्तव ने कहा कि कंट्रोल रूम में पानी घुसने के कारण पैनल खराब हो गया है. उन्होंने कहा कि नये सोलर प्लांट कंट्रोल रूम का निर्माण कार्य किया जा रहा है. जल्द ही इसका लाभ मरीजों को मिलने लगेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button