Uncategorized

रांची : आंगनबाड़ी कर्मचारी संघर्ष मोर्चा का धरना चौथे दिन भी जारी, सरकार पर लगाया अनदेखी का आरोप

Ranchi :  झारखंड राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा एवं आंगनबाड़ी कर्मचारी सभा की ओर से संयुक्त रूप से 16 जनवरी से सभी कर्मचारी बिरसा चौक पर धरने पर बैठे हैं. धरना स्थल पर सैकड़ों की संख्या में सेविका एवं सहायिका झारखंड के विभिन्न जिलों से पहुंचे और विरोध जाहिर किया. धरने पर बैठी सेविकाओं ने कहा कि  सरकार आंगनबाड़ी सेविकाओं की मांग को अनदेखा कर रही है, जबकि राज्य में बच्चों के अक्षर ज्ञान से लेकर स्वास्थ्य सेवा में सेविकाओं का महत्वपूर्ण योगदान रहता है.

इसे भी पढें – बेहोशी की हालत में मिले लापता प्रवीण तोगड़िया, रोते हुए कहाः मेरा एनकाउंटर कराने की थी साजिश

धरने में इन मांगों को रखा गया सामने

Catalyst IAS
ram janam hospital

इस मौके पर संघ की प्रदेश अध्यक्ष सुंदरी तिर्की ने कहा कि समान कार्य के लिए समान वेतन के सिद्धांत पर सेविकाओं को मानदेय न्यूनतम 21,000 रुपया और सहायिका का 15,000 रुपया प्रतिमाह दिया जाय. उन्होंने कहा कि सेविका और सहायिका को सरकारी कर्मचारी घोषित करते हुए वेतनमान निर्धारित किया जाए. साथ ही कहा कि सेविका एवं सहायिका को महंगाई भत्ता, चिकित्सा भत्ता, नियत यात्रा भत्ता की स्वीकृति देते हुए सबको मोबाइल भत्ता भी दिया जाये. सेविका को वरीयता एवं योग्यता के आधार पर पर्यवेक्षिका की रिक्त शत-प्रतिशत पदों पर प्रोन्नति दी जाय. धरना दे रही सेविकाओं और सहायिकाओं की मांग है कि झारखंड राज्य अंतर्गत रिक्त पदों पर होने वाली नियुक्तियों में पदों को आरक्षित किया जाए. उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव विभाग के निदेशक के द्वारा निर्गत आदेश पर सेविका एवं सहायिका को पुअर परफॉर्मेंस के आधार पर बर्खास्त सेविकासहायिका को सेवा में वापस लिया जाये. सरकारी विद्यालय में आधारभूत संरचना के अनुरूप आंगनबाड़ी केंद्र में भी आधारभूत संरचना उपलब्ध करायी जाए.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें -मोदी के खिलाफ मुंह खोलने वाले तोगड़िया समेत तीन को बाहर का रास्ता दिखायेगा आरएसएस

सेविका-सहायिका की मांग जायज : जयप्रकाश भाई पटेल

झामुमो के मांडू से विधायक जयप्रकाश भाई पटेल भी धरना स्थल पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि सेविका एवं सहायिकाओं की मांग जायज है. कड़ी मेहनत और मशक्कत के बाद भी उन्हें सम्मानजनक वेतन नहीं मिलता है. जिसका मुझे अफसोस है और इनकी मांगों को हम विधानसभा सत्र में भी उठाएंगे. साथ ही विधानसभा की समिति में भी आंगनबाड़ी सेविका की मांग को भी रखेगें.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button