Uncategorized

मानवता हुई शर्मसार : डायन के आरोप में दो महिलाओं का सिर मुंडाकर पूरे गांव में घुमाया, मल-मूत्र भी पिलाया

Ranchi/Sonahatu : देश डिजिटल इंडिया बन रहा है. सरकार झारखंड के सभी क्षेत्र को डिजिटल बनाने में करोड़ों रुपये खर्च कर रही है. मगर राज्य में अंधविश्वास कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है. आये दिन हमेशा राज्य के कई हिस्सों से डायन-बिसाही का आरोप लगाकर महिलाओं को प्रताड़ित करने की खबर आती रही है. झारखंड में डायन-बिसाही एक अभिशाप के रूप समाज को बांटने में लगे है. झारखंड सरकार के समाज कल्याण विभाग ने पिछले वित्तीय वर्ष में डायन बिसाही और महिला हिंसा के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रम के लिए करीब चार करोड़ रुपये खर्च कर दिये. जानकारी के मुताबिक आगामी वित्तीय वर्ष में यह बजट करीब 10 प्रतिशत बढ़ेगा. बावजूद इसके झारखंड में डायन बिसाही के नाम पर हो रही हत्याओं और प्रताड़ना पर नकेल कसने में सरकार नाकाम रही है.  सोनाहातू में घटी उक्त घटना मानवता को शर्मसार करने वाली है.

सोनाहातू थाना क्षेत्र के बोंगादार दुलमी गांव में डायन का आरोप लगा कर दो महिलाओं को सिर मुंडन कर पेशाब-मैला पिलाया गया. 65 वर्षीय कारो देवी 35 वर्षीय बसन्ती देवी दोनों मां-बेटी है. कारो देवी ने बताया कि भैयाद में तीन लोगों की बुधवार रात में तबीयत बिगड़ी थी, घरवालों ने रात में ही एक ओझा को बुलाया. ओझा ने बताया कि पूरे घर में डायन का प्रकोप है. ओझा ने दोनों मां-बेटी को डायन घोषित कर दिया. गुरुवार सुबह 10 बजे सभी ने मिलकर मांबेटी को घर से निकाल कर मल खिलाया और पेशाब पिलाया, फिर दोनों को स्वर्णरेखा नदी ले जाकर सिर मुंडन कराया. दोनों को सादा कपड़ा पहनाकर गांव में घुमाया गया.

 

इसे भी पढ़ें : डायन-बिसाही मामलों की रोकथाम के लिए हर साल बढ़ रहा बजट, लेकिन कम नहीं हो रहीं घटनाएं

Sanjeevani

र से मां-बेटी दो दिनों तक नहीं दी घटना की सूचना

डर से मां-बेटी ने किसी को घटना की जानकारी नहीं दी. शुक्रवार सुबह बसन्ती देवी ने मामा घर जाकर घटना की जानकारी दी. महिला ने ममेरे भाई के साथ सोनाहातू थाना में मामला दर्ज कराया. थाना में मामला आते ही पुलिस ने त्वरित कार्रवाई शुरू कर दी है. नामजद लोगों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस गांव पहुंच गयी है. जितमोहन नायक, सम्बत नायक, अशोक नायक, अक्षय नायक, सन्तोष नायक, गुलाब नायक, प्रमिला देवी, शीला देवी, मालती देवी, सिमंत हजाम, ओझा मिस्रीया पुराण के खिलाफ मामला कराया है.

इसे भी पढ़ें :डायन बताकर खुलेआम महिलाओं पर हो रहे अत्याचार, कहीं वृद्धा को उठा ले गये, तो कहीं कर दी हत्या

सरायकेला के डुमरा में सबसे ज्यादा डायन प्रताड़ना

डायन बिसाही और महिला हिंसा पर झारखंड के ग्रामीण इलाकों में काम करने वाली एक एनजीओ आशा के अजय कुमार की मानें तो डायन बिसाही के नाम पर झारखंड के रांची, खूंटी, सरायकेला, लोहरदगा, लातेहार में सबसे ज्या दा महिलायें हत्या की शिकार हुयी है. सरायकेला में डुमरा एक ऐसा गांव है जहां विधवा और बुजुर्ग महिलाओं का डायन बिसाही के नाम पर प्रताड़ना का मामला आम है. वहां आधी रात को ग्रामीण ढोल नगाड़ों के साथ महिलाओं को डायन के नाम पर परेशान करते हैं.

इसे भी पढ़ें : डायन बताकर महिला के काटे बाल, शिकायत दर्ज

30 साल में डायन बताकर मार दी गयीं 1,655 महिलाएं

गांवों की औरतें अमानवीय अत्याचार की शिकार हो रही हैं. डायन होने का आरोप लगाकर औरतों को मल-मूत्र पिलाने, नग्न कर गांवों में घुमाने और उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म करने जैसी खबरें झारखंड में आए दिन सुनने को मिल रही है. डायन के नाम पर जघन्य हत्या को अंजाम दिया जा रहा है. पिछले तीस सालों में झारखंड के जिलों में अब तक डायन होने का आरोप लगाकर लगभग 1,655 महिलाओं की हत्या की जा चुकी है. झारखंड में पिछले चार सालों में डायनऔर जादू-टोने के नाम पर 183 महिलाओं की पीट-पीटकर हत्या कर दी गयी. केवल 2016 में ही डायन होने के संदेह में 54 महिलाओं की हत्या कर दी गयी. साल 2017 में नवंबर तक 42 महिलाओं को मार डाला गया है.

सरकारी प्रयास नाकाफी

डायन प्रथा उन्मूलन को लेकर लंबे समय से कार्यक्रम चला रहे गैर-सरकारी संस्था आशा की पूनम टोप्पो कहती हैं, “इन मामलों में सरकारी प्रयास अब तक नाकाफी हैं. जागरुकता अभियान वाले प्रचार वाहनों को बड़े तामझाम से गांवों में भेजा गया, लेकिन ये अभियान लगातार नहीं चला.” राज्य में इसके खिलाफ सख्त कानून बने हैं और सरकार से लेकर अदालत तक इस मुद्दे पर संवेदनशील है, फिर भी किसी औरत को डायन बताकर उसकी हत्या कर देना आम बात है. झारखंड पुलिस के आंकड़ों की मानें तो साल 2016 में 44, 2015 में 51 और 2014 में 14 महिलाओं को जादू-टोने के शक की वजह से मार डाला गया है. हालांकि एनसीआरबी की डाटा झारखंड पुलिस के द्वारा दी गयी संख्या से कम है. एनसीआरबी के मुताबिक 2016 में 27 महिलाओं की हत्या की गयी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

One Comment

  1. 531026 285345I notice there is undoubtedly lots of spam on this weblog. Do you require support cleaning them up? I might assist between courses! 740523

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button