Uncategorized

महादेई के मुद्दे पर शिवसेना ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, पर्रिकर को कहा ‘खराब सेंटा क्लॉज’

Panaji :  शिवसेना की गोवा इकाई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनसे अनुरोध किया है कि वह मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को कर्नाटक को महादेई नदी का जल लेने की अनुमति देने का कदम उठाने से रोकने के लिए हस्तक्षेप करें. शिवसेना की गोवा इकाई की प्रवक्ता राखी प्रभुदेसाई नाइक ने क्रिसमस के मौके पर पर्रिकर के कदम को खराब सेंटा क्लॉजका कदम बताते हुए कहा है कि इससे हमारे बच्चों से महादेई नदी के रूप में उनके भविष्य को छीना जा रहा है.

महादेई नदी का पानी देने पर सहमति जताकर बच्चों के भविष्य पर ग्रहण लगाया पर्रिकर ने 

पत्र में लिखा गया है कि  ‘‘सेंटा क्लॉज बच्चों के चेहरों पर मुस्कान लाने के लिए उपहार बांटते हैं लेकिन हमारे पर्रिकर, जो खराब सेंटा क्लॉजहैं, ने इसके बजाय महादेई नदी का पानी देने पर सहमति जताकर हमारे बच्चों के भविष्य पर ग्रहण लगाया है.’’ नाइक ने पत्र में लिखा कि पार्टी प्रधानमंत्री से पर्रिकर के व्यवहार पर अपनी नाखुशी जाहिर करना चाहती है.

इसे भी पढ़ें: पाक ने किया क्रूर मजाक, मुलाकात एक नाटक : दलबीर कौर (सरबजीत सिंह की बहन)

advt

खुशी देने के त्योहार पर बेहतर भविष्य की उम्मीद हो रही है खत्म 

उन्होंने कहा कि यह लोगों को खुशी देने का त्योहार है. ईसा मसीह का जन्मदिन आशाओं का प्रतीक है, लेकिन महादेई नदी का पानी कर्नाटक को देने पर रजामंदी जताने के पर्रिकर के फैसले से बेहतर भविष्य की राज्य की उम्मीद खत्म हो रही है.’’ प्रवक्ता ने पत्र में लिखा कि यह नदी प्रकृति की ओर से हमें मिला उपहार है और हमारे पूर्वजों ने इसकी पूजा और संरक्षण किया है. हमारी भावी पीढ़ियों को इसे पहुंचाना हमारी जिम्मेदारी है. पत्र में प्रधानमंत्री से यह अनुरोध भी किया गया है कि पर्रिकर पर फैसले को वापस लेने का दबाव बनाकर असली सेंटा क्लॉजकी भूमिका निभाएं. इसमें लिखा है कि अगर आप क्रिसमस के मौके पर ऐसा करते हैं तो उम्मीद, प्यार और शांति का संदेश फैलाएंगे.’’ पर्रिकर ने हाल ही में भाजपा की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा को लिखे पत्र में जल बंटवारे के मुद्दे पर गोवा के रुख को नरमी से पेश किया था. इसके बाद शिवसेना ने पत्र लिखा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: