Uncategorized

बेटियां किसी से कम नहीं, हर हाल में चाहिए अधिकार : महिला अधिकार संघर्ष समिति

LATEHAR :  अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला अधिकार संघर्ष समिति, मनिका, के बैनर तले सैकड़ों महिलाओं ने मनिका हाई स्कूल से एक रैली निकाली एवं प्रखण्ड कार्यालय परिसर में आम सभा का आयोजन किया. रैली में शामिल महिलाएँ अपने हाथों में तख्तियाँ लिये हुई थीं. मातृत्व हक कानून लागू करने, महिलाओं पर शोषण बन्द करने, महिलाओं को सम्पूर्ण अधिकार देने आदि नारे लगाये जा रहे थे. सभा के दौरान महिला वक्ताओं ने अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की गौरवमयी ऐतिहासिक पृष्ठभूमि पर प्रकाश डाला. वक्ताओं ने यह भी कहा कि जहाँ इतिहास में महिलाओं ने अपने संघर्ष के बल पर अपनी जीत का लोहा मनवाया वहीं आज उस रूप में शोषण दृष्टिगोचर नहीं होता लेकिन आज बच्चियों को, महिलाओं को
लिंग भेद का शिकार होना पड़ रहा है. बच्चियों के साथ घर में खाने-पीने के दौरान भेद किया जाता है. विद्यालयों में बच्चियों को भेद-भाव का शिकार
होना पड़ता है.डायन बिसाही का शिकार सिर्फ महिलाओं को होना पड़ता है. लेकिन आज जिस बेदर्दी से राज्य एवं केन्द्र सरकार महिलाओं के साथ अन्याय कर रही वह सामने दिखाई नहीं पड़ता. केन्द्र सरकार ने 2013 में गर्भवती महिलाओं को मातृत्व हक के तहत् 6000/- रूपये देने का प्रावधान किया  था, लेकिन  मौजूदा सरकार आज तक इसे लागू नहीं कर रही है.

इसे भी पढ़ें- अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर लोहरदगा पैसेंजर ट्रेन  महिला पायलट,  को-पायलट, गार्ड,  टीटीई  के हवाले रही

राज्यपाल के नाम बनाया मांग पत्र

कार्यक्रम के माध्यम से महिलाओं ने महामहिम राज्यपाल के नाम पर माँग पत्र भी बनाया, जिसे रांची जा कर सौंपा जायेगा. महिलाओं ने कहा कि सभी एकल,विधवा एवं परित्यकता महिलाओं को सभी सामाजिक सुरक्षा योजनाओं में अविलम्ब आच्छादित किया जाए. बिन्दु 1 में वर्णित सभी परिवारों को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत् राशन कार्ड निर्गत किये जाएँ.  27 जुलाई 2016 को राज्य रोजगार गारंटी परिषद् की बैठक में लिये गये निर्णयों को राज्य में सख्ती से लागू किया जाए. मनिका प्रखण्ड अन्तर्गत ग्राम जुंगुर के ग्राम प्रधान हत्याकाण्ड में शामिल सभी अपराधियों की त्वरित गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए. महिलाओं पर होने वाले उत्पीड़न, शोषण, अत्याचार एवं लिंग भेद को पूरी तरह खत्म किये जाएँ.

advt

महिला रैली

बेटियां भी कर सकती हैं हर बड़ा काम : ज्यां द्रेज

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए प्रो. ज्यां द्रेज़  ने कहा कि पूरी दुनिया में महिला दिवस मनाया जा रहा है. महिला एवं पुरुष एक सामान अधिकार है. बेटा होता है तो घरो में मिठाई बाटते है और बेटी के होने पर कुछ नही, आखिर ऐसा शोषण क्यों  किया जा रहा है. वही सक्रेट हार्ट की छात्रा एंजेल पारीक ने बेटियो केअधिकारों के बारे में रोशनी डालते हुए कहा कि बेटियों को आगे बढ़ना चाहिए क्योंकि बेटियां भी सब काम कर सकती हैं.

इसे भी पढ़ें-  वीमेंस डे स्पेशल : मरीजों की सेवा कर रही डॉ दिव्या के लिये निःशक्तता नहीं बनी बाधा

कार्यक्रम में ये भी रहे शामिल

कार्यक्रम को  दिब्या भगत, राजकली देवी, जानकी देवी, बसन्ती देवी, सोसाइटी फार लेबर डेवल्पमेंट से पुनम विश्वकर्मा,  सुषमा तिर्की,  शांति
देवी, बिनती देवी,  जेम्स हेरेंज, पचाठी सिंह, दिलीप रजक, अमरदयाल सिंह, कमलेश उरांव, राजेश्वर सिंह, जितेन्द्र सिंह आदि लोगों की महत्वपूर्ण
भूमिका रही. सभा का संचालन अश्रिता तिकी ने किया. कार्यक्रम को सफल बनाने में ग्राम स्वराज मजदूर संघ, यूआरआई, एनसीडीएचआर, झारखंड नरेगा वाच ने कार्यक्रम को सफल बनाने में सहयोग किया.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: