Uncategorized

फ्रांस से तोहफे में मिली स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी 17 जून को पहुंची थी अमेरिका

NewDelhi : अमेरिका की पहचान मानी जाने वाली स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी दरअसल अमेरिका को फ्रांस की तरफ से तोहफे में मिली थी और यह 17 जून के ही दिन अमेरिका को सौंपी गयी थी. चार जुलाई 1776 को अमेरिका की स्वतंत्रता की स्मृति में फ्रांसीसियों द्वारा उपहार स्वरूप दी गयी स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी का निर्माण फ्रांस और अमेरिका दोनों के संयुक्त प्रयासों से किया गया था. दोनों देशों की सरकारों के बीच हुए एक समझौते के तहत अमेरिकी लोगों ने इस मूर्ति का आधार बनाया जबकि फ्रांसीसी लोगों ने मूर्ति को आकार और स्वरूप दिया. तांबे की यह शानदार प्रतिमा अमेरिका के न्यूयार्क शहर के मैनहट्टन में लिबर्टी द्वीप पर स्थित है.  17 जून की तारीख पर इतिहास में दर्ज अन्य घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है.

इसे भी पढ़ें  :  भ्रष्ट नेता और अफसर भाड़े के हत्यारों से भी ज्यादा खतरनाक : गुजरात हाई कोर्ट

17 जून को विश्‍व में क्‍याक्‍या हुआ

17 जून, 1799  को नेपोलियन बोनापार्ट ने इटली को अपने साम्राज्य में शामिल किया. 1855 में इसी दिन स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी न्यूयॉर्क के बंदरगाह पहुंची. 17 जून 1938 को  जापान ने चीन के खिलाफ युद्ध की घोषणा की. 17 जून,1944 को जर्मनी ने द्वितीय विश्व युद्ध में समर्पण किया. इसी दिन 1970 में शिकागो में पहली बार किडनी प्रतिरोपण का ऑपरेशन हुआ. 1974 में ब्रिटेन की संसद में बम धमाका हुआ, जिसमें 11 लोग घायल हुए. 2002 में कराची में अमेरिकी वाणिज्य दूतावास को दोबारा खोला गया. 2004 में मंगल पर पृथ्वी की चट्टानों से मिलते-जुलते पत्थर मिले. 2004 में  बगदाद में सेना के भर्ती केन्द्र पर विस्फोट में 42 लोगों की मौत हुई. 17 जून , 2008 को  देश में विकसित हल्के लड़ाकू विमान तेजस का बेंगलुरू में सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया. 2008 में ही इसी दिन: रूस ने अपने विनाशकारी रासायनिक हथियारों का जखीरा 2012 तक नष्ट करने की दिशा में कदम बढ़ाया. 17 जून, 2008 को  कनाडा सरकार ने तमिल वर्ल्ड मूवमेंट संगठन को आतंकवादी समूहों की सूची में डाला.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button