Uncategorized

प्रदेश भाजपा की नब्ज टटोलने आ रहे अमित शाह, सरकार और पार्टी पदाधिकारियों की लेंगे क्लास

Satya Sharan Mishra

Ranchi, 6 September: भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह प्रदेश में संगठन की नब्ज टटोलने 15 सितंबर को रांची आ रहे हैं. तीन दिवसीय दौरे में भाजपा के रणनीतिकार अमित शाह न केवल राज्य में चुनाव जीतने की रणनीति बनायेंगे, बल्कि संगठन के कामकाज की समीक्षा करेंगे. केंद्र से दिये गये टास्कों की रिव्यू भी करेंगे. अमित शाह प्रदेश भाजपा के कामकाज के साथ-साथ सरकार के कामकाज की भी समीक्षा करेंगे. अमित शाह के दौरे से जहां भाजपा के कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह है, वहीं सरकार से लेकर भाजपा के पदाधिकारी काफी सहमे हुए हैं. कहा जा रहा है कि प्रदेश भाजपा के कुछ खास पदाधिकारियों की रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष को मिल चुकी है. अमित शाह पदाधिकारियों के कामकाज से बिल्कुल संतुष्ट नहीं हैं. कार्यकर्ताओं का कहना है कि अमित शाह अपनी बैठकों में खास तौर पर इन पदाधिकारियों की क्लास लगायेंगे. वे कई मुद्दों पर सरकार से भी जवाब मांगेंगे. 

दो दिनों तक पदाधिकारियों के साथ बैठक, एक दिन कार्यकर्ताओं से संवाद
अमित शाह 15 सितंबर को रांची आ रहे हैं. वे 15, 16 और 17 सितंबर को हरमू स्थित पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में रहेंगे. 15 और 16 सितंबर को शाह प्रदेश कार्यालय में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ समेत पार्टी के सभी पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे. इसके अलावा वे मोर्चा और प्रकोष्ठ के पदाधिकारियो के साथ भी अलग-अलग बैठक कर उनके विभाग के कार्यों की समीक्षा करेंगे. इसके बाद 17 सितंबर को शाह हरमू मैदान में भाजपा के कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी के कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे. यानी शाह संगठन के एक-एक पदाधिकारी से लेकर बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से मिलेंगे. रांची प्रवास के दौरान वे प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह से विस्तार से संगठन से जुड़े कार्यों पर चर्चा करेंगे. करीब 3 महीने पहले ही धर्मपाल संगठन महामंत्री बनाये गये हैं. 3 महीनों से उनका आशियाना भाजपा ऑफिस ही है. ऑफिस के तीसरे तल्ले में रहकर वे संगठन के एक-एक काम और पार्टी पदाधिकारियों की कार्यशैली पर नजर रख रहे हैं.

महामंत्रियों की रिपोर्ट के आधार पर पदाधिकारियों से मांगा जायेगा जवाब
धर्मपाल सिंह जो रिपोर्ट देंगे वह तो देंगे ही. इसके अलावा शाह अपने विश्वासपात्र पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से भी रिपोर्ट लेंगे. शाह भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री सौदान सिंह, रामलाल और राम माधव की रिपोर्ट भी वह रिपोर्ट भी साथ लेकर आयेंगे जो उन्होंने झारखंड से जाने के बाद उन्हें सौंपा है. इसके अलावा उन शिकायतों पर भी बात होगी जो प्रदेश भाजपा के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय नेतृत्व से किया है. इन सभी रिपोर्ट के आधार पर पार्टी पदाधिकारियों से जवाब मांगा जायेगा. कहा जा रहा है कि जिन नेताओं का परफॉरमेंस खराब है उन्हें शाह बाहर का रास्ता दिखायेंगे. पंडित दीनदयाल उपाध्याय कार्य विस्तार योजना को लेकर पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री कई बार नाराजगी जता चुके हैं. जाहिर है जिन लोगों को इसकी जिम्मेदारी दी गयी थी उनपर गाज गिरना तय है.

कार्यकर्ताओं में जोश और उत्साह भरने की होगी कोशिश
2019 के विधानसभा चुनाव से पहले अमित शाह का यह दौरा भाजपा के लिए काफी अहम माना जा रहा है. अमित शाह अपने इस दौरे में संगठन के एक-एक कार्यकर्ता तक पहुंचने की कोशिश करेंगे. वे कार्यकर्ताओं में नया जोश और उत्साह भरने की कोशिश करेंगे. वे कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र देंगे और एक-एक कार्यकर्ताओं की जिम्मेवारी तय करके जायेंगे. गौरतलब है कि आगामी चुनाव के मद्देनजर अमित शाह देश के हर राज्य का दौरा कर रहे हैं और वहां जाकर पार्टी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से मिलकर आगे की रणनीति तय कर रहे हैं. उनका झारखंड दौरा भी इसी की एक कड़ी है. गौरतलब है कि शाह संगठन को लेकर काफी गंभीरता रखते हैं. वे लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं करते. यही कारण है कि उनके इस दौरे से उन पदाधिकारियों के पसीने छूट रहे हैं जिन्होंने अपनी जिम्मेवारी ढंग से नहीं निभाई.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button