Uncategorized

प्रख्यात राजनीति विज्ञानी रजनी कोठारी का निधन

नई दिल्ली : प्रख्यात राजनीति विज्ञानी रजनी कोठारी का सोमवार सुबह यहां निधन हो गया। उन्होंने सुबह लगभग 10 बजे अपने घर पर अंतिम सांस ली। वह 86 साल के थे। यह जानकारी उनके एक करीबी ने दी।

सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसायटी (सीएसडीएस) से जुड़े प्रवीण राय ने आईएएनएस को बताया, “रजनी कोठारी लंबे समय से बीमार थे। उन्होंने सुबह लगभग 10 बजे पटपड़गंज एक्सटेंशन स्थित अपने घर पर अंतिम सांस ली।” सीएसडीएस की स्थापना कोठारी ने ही की थी।

राय के अनुसार, कोठारी का अंतिम संस्कार मंगलवार दोपहर बाद ही संभव हो पाएगा, क्योंकि उनके दोनों बेटे (मिलोन, आशीष) दिल्ली में नहीं हैं।

SIP abacus

कोठारी की पत्नी का पहले ही निधन हो गया था। अंतिम समय में उनके साथ उनके सहयोगी शंकर मौजूद थे।

Sanjeevani
MDLM

राय ने बताया कि कोठारी के बड़े पुत्र मिलोन स्टिजरलैंड रहते हैं, लेकिन संयोगवश किसी काम से वह गोवा आए हुए हैं, लिहाजा वह शाम तक दिल्ली पहुंच रहे हैं। लेकिन छोटे पुत्र आशीष इस समय जर्मनी में हैं, और वह मंगलवार सुबह तक दिल्ली पहुंचेंगे। आशीष पुणे रहते हैं।

राय ने कहा कि दोनों बेटों के आने के बाद ही तय हो पाएगा कि अंतिम संस्कार कब और कहां होगा। लिहाजा मंगलवार दोपहर से पहले इसकी संभावना नहीं है।

16 अगस्त, 1928 को जन्मे कोठारी ने 1963 में दिल्ली स्थित सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसायटी की स्थापना की थी, जो आज समाज और राजनीति से जुड़े तमाम मुद्दों पर शोध और सक्रियता की एक प्रतिनिधि संस्था मानी जाती है। कोठारी को 20वीं सदी का एक प्रमुख राजनीतिक विचारक माना जाता है।

उन्होंने कई पुस्तकें लिखी, जिनमें पॉलिटिक्स इन इंडिया (1970) कास्ट इन इंडियन पॉलिटिक्स (1973) और रीथिंकिंग डेमोक्रेसी (2005) प्रमुख रूप से शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button