Uncategorized

पलामूः पोस्ता खेती के खिलाफ जागरूकता अभियान, पुलिस ने ग्रामीण इलाकों में लगाया पोस्टर

News Wing Palamu, 02 November: झारखंड के सुदूरवर्ती गांवों में आम तौर पर नक्सलियों के पोस्टर लगाये जाने की खबर आती है, लेकिन इस बार पुलिस को पोस्टर लगाने की खबर सामने आयी है. दरअसल पोस्ता की खेती को रोकने के लिए और जागरूकता लाने के लिए पुलिस ने पलामू के कई सुदूरवर्ती इलाकों में पोस्टर चिपकाया और लोगों को पोस्ता की खेती से तौबा करने के लिए जागरूक किया. पोस्टर में बताया गया है कि पोस्ता की खेती न केवल एक सामाजिक बुराई है, बल्कि यह एक जघन्य अपराध भी है. इस अपराध के लिए एनडीपीएस एक्ट की धाराओं के तहत सजा हो सकती है.

नक्सलियों के आर्थिक स्त्रोत का साधन है पोस्ता

advt

पुलिस की तमाम कोशिशों के बाद भी नक्सल प्रभावित पलामू जिले में पोस्ता खेती का धंधा थम नहीं रहा है. यहां पोस्ता की खेती को नक्सलियों के आर्थिक स्त्रोत के एक साधन के रूप में देखा जाता है. यही वजह है कि पलामू पुलिस ने इस काले धंधे के खिलाफ कई मोर्चों पर लड़ाई शुरू की है.

पुलिस ने तय की है पंचायत प्रतिनिधियों की जवाबदेही

पुलिस ने पोस्ता खेती के धंधे का समूल नाश करने के लिए पंचायत प्रतिनिधियों पर जवाबदेही  तय की है, वहीं इस सामाजिक विकृति के खिलाफ पोस्टरवार भी शुरू किया है. पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा ने बताया कि अभियान के तहत पीपराटांड़ थाना क्षेत्र के गिरि गांव में लोगों को गुरुवार को जागरूक किया गया. साथ ही पिछले वर्ष जिन जगहों पर पोस्ते की खेती की गयी थी, पुलिस द्वारा उन स्थानों का निरीक्षण भी किया गया.

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: