Uncategorized

न्यायमूर्ति कर्नन के खिलाफ सुनवाई 3 सप्ताह तक टली

नई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति सी. एस. कर्नन के खिलाफ अवमानना मामले में सुनवाई सोमवार को तीन सप्ताह के लिए टाल दी। शीर्ष अदालत ने न्यायमूर्ति कर्नन के पेश नहीं होने के चलते मामले की सुनवाई टाल दी और इसके लिए अगली तिथि 10 मार्च तय की।

सात सदस्यीय संविधान पीठ ने कहा, “हमें इस बात की जानकारी नहीं है कि कर्नन आखिर किन कारणों से पेश नहीं हो सके। इसलिए फिलहाल हम मामले की सुनवाई रोकते हैं।”

advt

इससे पहले महान्यायवादी मुकुल रोहतगी ने अदालत को बताया कि सर्वोच्च न्यायालय के नियमों के तहत इस मामले में न्यायमूर्ति कर्नन का पेश होना जरूरी है।

रोहतगी ने पीठ से कहा, “आज (सोमवार) कर्नन पर आरोप दर्ज हों। यह दर्ज किया जाए कि वह अदालत में पेश नहीं हुए और उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया जाए।”

रोहतगी ने सह कहते हुए शीर्ष अदालत का ध्यान न्यायमूर्ति कर्नन की अदालत से अनुपस्थिति पर केंद्रित करने की कोशिश की कि सर्वोच्च न्यायालय के महापंजीयक को भेजे उनके पत्र की शैली भी पहले से भिन्न नहीं है।

इस पर पीठ ने कहा, “कर्नन ने पत्र में नहीं लिखा है कि वह पेश नहीं हो सकते। उन्होंने कहा है कि उन्हें समय नहीं दिया गया।”

सर्वोच्च न्यायालय ने न्यायमूर्ति कर्नन को आठ फरवरी को अवमानना नोटिस जारी किया था।

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: