Uncategorized

निकाय चुनाव में अव्यवस्था से सीपी सिंह नाराज, आयोग को पत्र लिखकर कहा – नाकाबिल अफसरों को करें सम्मानित

Ranchi : झारखंड सरकार के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने नगर निकाय चुनाव में हुई अव्यवस्था के बाद निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर अपनी नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने चुनाव कार्य में लगे अफसरोंं  को नाकाम और नकारा बताते हुए एेसे अफसरोंं को सम्मानित करने की  बात भी कही  है. सीपी सिंह ने चुनाव के एक दिन बाद 17 अप्रैल को लिखे पत्र में निर्वाचन आयोग से  रांची नगर निगम चुनाव के दौरान अप्रभावीअयोग्‍यअसमर्थ और खराब प्रबंधन करने वाले अधिकारियों की सूची तैयार करने को कहा है.

सूची बनाने के लिए कुछ मापदंड भी निर्वाचन आयोग को सुझाये

मंत्री सीपी सिंह ने अपने पत्र के जरिये सूची बनाने के लिए कुछ मापदंड भी निर्वाचन आयोग को सुझाये हैंजो मतदान के दौरान मतदाताओं लिए परेशानी का सबब भी बना. बिना जमीनी सर्वे के वार्ड परिसीमन तय होनाजिससे मतदाताओं में अपने वार्ड नंबर के लिए भ्रम की स्थिति बनी. कई मतदाताओं के मतदान बूथ उनके घरों से काफी दूरी पर बनाये गये थे, जिससे वोटर्स के नाम अपने वार्ड के बूथ में नहीं मिले. या फिर कई वोटर्स दूरी की वजह सें वोट देने गये ही नहीं. कई परिवार के सदस्‍यों के नाम अलग-अलग वार्ड और बूथों के मतदाता सूची में डाल दिया गया.  जबकि कई मतदाताओं के नाम मतदाता सूची से गायब मिले. वोटर लिस्‍ट जो जारी किये गये, वह कमीशन के अधिकारिक साइट में मौजूद लिस्‍ट से अलग था. रांची नगर निगम एरिया में कई स्‍कूल होते हुए भी टेंट लगाकर चुनाव कराये गये.  

इसे भी पढ़ें – 2017 में टूटा रेप की घटनाओं का रिकॉर्ड, चार साल में दुष्कर्म के 5221 मामले 

Sanjeevani

अव्यवस्था से कम रहा मतदान का प्रतिशत

इसके अलावा जिस तरीके से निकाय चुनाव के लिए मतदाता सूची तैयार किया गयाइससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि चुनाव आयोग जैसी एजेंसी ने बिना संसाधन का उपयोग कर अपने अधिकारियों की निपुणता का कैसे इस्‍तेमाल किया है. गौरतलब है कि विभिन्‍न मौकों पर अवॉर्ड सेरेमनी के जरिये संबंधित क्षेत्र के श्रेष्‍ठ को पुरस्‍कृत जाता रहा है. चुनाव आयोग को भी एक नया ट्रेंड चालू करते हुए चुनाव प्रक्रिया से संबंधित अधिकारियों को उनके अक्षमताअसमर्थता और खराब प्रबंधन के लिए भी पुरस्‍कृत करना चाहिए. नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने पत्र की कॉपी भारत के मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त को भी भेजी है.

उल्लेखनीय है कि रांची के डीसी राय महिमापत रे ने एक ओर नगर निकाय चुनाव की अच्छी व्यवस्था पर किये गये एक ट्विट को रिट्विट किया था. वहीं दूसरी ओर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री समेत कई लोग बूथ पर अपना नाम ढ़ूढ़ते दिखा तो कई लोग बिना वोट दिये ही वापस लौट आये. जिससे रांची में वोटिंग प्रतिशत मात्र 41.5 प्रतिशत ही रहा.   

वल नवल

इसे भी पढ़ें – राज्य के 65.15 फीसदी लोगों ने निकाय चुनाव में किया अपने मतों का इस्तेमाल, रांची में 49.3 फीसदी वोटिंग 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलोभी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button