Uncategorized

देश को ना मोदी चाहिये, ना राहुल, और ना केजरीवाल : अन्ना हजारे

NEWS WING

New Delhi, 12 December : समाजसेवी अन्ना हजारे ने आज कहा कि आजादी के 70 साल बीत जाने के बाद भी देश में लोकतंत्र नहीं है. देश को ना तो नरेन्द्र मोदी चाहिये और ना ही राहुल गांधी, क्योंकि दोनों उद्योगपतियों के हिसाब से काम करते हैं. इस बार किसान के हित में सोचने वाली सरकार चाहिए. 23 मार्च से दिल्ली के रामलीला मैदान पर एक नये आंदोलन की जरूरत बताते हुए अन्ना ने कहा कि राजग और संप्रग दोनों सरकारों ने लोकपाल को कमजोर किया गया है. इसलिए एक बार फिर आंदोलन की जरूरत है. अन्ना ने यहां दावा किया कि देश में 22 साल में 12 लाख किसान आत्महत्या कर चुके हैं. उन्होंने कहा कि इस बार लड़ाई निर्णायक होगी. यह आंदोलन 23 मार्च से दिल्ली के रामलीला मैदान में होगा.

इसे भी पढ़ें : ममता ने इशारों-इशारों में किया रघुवर दास पर वार, कहा- झारखंड जैसे खनिज भंडार बंगाल में होते तो सोना पैदा करते

ram janam hospital
Catalyst IAS

दिमाग में उद्योगपति नहीं बल्कि किसान हो
उन्होंने आरोप लगाया कि उद्योगपतियों की सरकार नहीं चाहिये. ना ही मोदी चाहिये और ना ही राहुल गांधी. इन दोनों के मन मस्तिष्क में उद्योगपति ही हैं. हमें ऐसी सरकार चाहिये, जिसके दिमाग में उद्योगपति नहीं बल्कि किसान हो. उन्होंने कहा कि मनमोहन सिंह की सरकार ने लोकपाल का कमजोर ड्राफ्ट तैयार किया. हर राज्य में लोकायुक्त लाने के कानून बदल दिये गये. मनमोहन सिंह के बाद आयी मोदी सरकार दूसरा विधेयक ले आई और उसे कमजोर कर दिया. ऐसे में फिर आंदोलन की आवश्यकता है. उन्होंने यहां किसानों की समस्या और जनलोकपाल मुद्दे पर जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि वह जब 25 साल के थे तो उन्होंने आत्महत्या के लिए सोच लिया था लेकिन स्वामी विवेकानंद की किताब मिली और उनकी जिंदगी ही बदल गयी. उसके बाद उन्होंने गांव, समाज और देश की सेवा का संकल्प लिया. इसलिये व्रत लिया कि शादी नहीं करनी है.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें : खूंटी : उद्घाटन के बाद से ही बंद है धान क्रय केंद्र, मजबूरन खुले बाजार में 1200 रुपये क्विन्टल धान बेच रहे किसान

उन्होंने बताया कि उन्हें 45 वर्ष हो गये घर गए हुए. बैंक खाते की किताब कहां रखी है, पता नहीं है. मंदिर में रहता हूं और सोने को बिस्तर एवं खाने को एक प्लेट है लेकिन जीवन को जो आनंद मिलता है वह करोड़पति को भी नहीं मिलता होगा. उन्होंने कहा कि प्रकृति का दोहन करने से विनाश होता है. ऐसा विकास शाश्वत नहीं है.

2018 के आंदोलन में कोई ‘केजरीवाल’ पैदा नहीं होगा

समाजसेवी अन्ना हजारे ने आज कहा कि वर्ष 2011 में भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके आंदोलन के बाद अरविंद केजरीवाल ने जब आम आदमी पार्टी बना ली तो उन्होंने उनसे कोई वास्ता नहीं रखा. उन्होंने कहा कि 23 मार्च 2018 से वह एक और आंदोलन शुरू करने वाले हैं और उम्मीद करते हैं कि इससे कोई नया ‘केजरीवाल’ पैदा नहीं होगा. उन्होंने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि 23 मार्च 2018 से दिल्ली के रामलीला मैदान में होने जा रहे तीन सूत्रीय आंदोलन में लोकपाल की नियुक्ति, किसानों की समस्या, चुनाव सुधार को लेकर जनता में जागरूकता पैदा करने का लक्ष्य है. उन्होंने कहा कि अब जो भी कार्यकर्ता आंदोलन के दौरान उनसे मिलेंगे स्टाम्प पेपर पर लिखकर देंगे कि वह कोई पार्टी नहीं बनायेंगे. साथ ही उन्होंने घोषणा की कि वह न तो किसी पार्टी का समर्थन करेंगे और ना ही किसी पार्टी से किसी को चुनाव लड़वाएंगे.

इसे भी पढ़ें : पलामू: जातिगत बयान बनी सीएम रघुवर दास के गले की हड्डी, ब्राहमणों ने खोला मोर्चा, पार्टी कार्यकर्ता देने लगे इस्तीफा

जीएसटी और नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि सरकार का कहना कि बैंकों का 99 प्रतिशत पैसा जमा हो गया है तो कालाधन कहां गया. उन्होंने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि मोदी ने कहा कि 30 दिन के अंदर कालाधन वापस देश में आएगा और हर आदमी के खाते में 15-15 लाख रुपये होंगे, लेकिन किसी के खाते में 15 रुपये तक नहीं आये.

इसे भी पढ़ें : शिवसेना का मोदी पर हमला, कहा : गुजरात चुनाव जीतने के लिए पाकिस्तान को घसीटना एक ‘‘नापाक’’ कोशिश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button