Uncategorized

तामिलनाडुः तूतीकोरिन हिंसा के खिलाफ विपक्ष का बंद, प्लांट बंद करने का आदेश भी जारी

Chennai: तमिलनाडु में तूतीकोरिन हिंसा की निन्दा करते हुए और मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी के इस्तीफे की मांग के लिये द्रमुक के नेतृत्व में विपक्षी दलों ने शुक्रवार को बंद का ऐलान किया.डीएमके की अगुवाई में विपक्ष ने शुक्रवार को आहूत बंद के दौरान तमिलनाडु के कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन किया. ऑटोरिक्शा चालकों ने बंद का समर्थन किया है. वही दुकानें और होटल बंद हैं. कन्याकुमारी और नागपट्टनम जिलों में सरकारी बसों पर पथराव की छिटपुट घटनाओं की भी खबर है. हालांकि सरकारी दफ्तरों में कामकाज सामान्‍य रूप से चल रहा था. पुलिस ने कहा कि अब तक हुए विरोध प्रदर्शन में करीब सवा करोड़ रुपए के वाहन जलाए गए हैं या नुकसान पहुंचा है. वही बंद को देखते हुए सुरक्षा की भी पुख्ता व्यवस्था की गई.

इसे भी पढ़ेंःतूतीकोरिन हिंसाः पलानीस्वामी ने विपक्ष, असामाजिक तत्वों को ठहराया जिम्मेदार 

प्रदर्शन कर रही राजनीतिक पार्टियों ने सरकार के खिलाफ नारे लगाए और एग्मोरे, सैदापेट सहित कई स्थानों पर प्रदर्शन किया गया. चेन्नई के पूर्व मेयर और द्रमुक नेता एम सुब्रमण्यम, पार्टी की राज्यसभा सदस्य कनिमोझी,  वीसीके के प्रमुख थिरुमावलवन,  एमएमके नेता एम एच जवाहिरुल्ला सहित कई नेता इस प्रदर्शन में शामिल हुए. बंद के कारण कई शहरों में यातायात व्यवस्था प्रभावित हुई, हालांकि इस दौरान किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था दिखी. सभी जिलों में जवानों की तैनाती की गई. और स्थिति सामान्य बनाए रखने के लिए एहतियाती तौर पर कदम भी उठाए गए हैं.  

Catalyst IAS
ram janam hospital

गौरतलब है कि तूतीकोरिन में 22 और 23 मई को स्टरलाइट प्लांट बंद कराने को लेकर हो रहे प्रदर्शन ने हिंसक रुप ले लिया, जिसके बाद पुलिस ने फायरिंग की. इस फायरिंग में 13 लोगों की मौत हो गयी थी.दरअसल, मंगलवार को स्थानीय लोगों ने प्रदूषण संबंधी चिंता के कारण वेदांत समूह के तांबे के कारखाने को बंद किए जाने की मांग करते हुए सड़कों पर बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया था , जिसके बाद हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए थे.

The Royal’s
Sanjeevani

प्लांट बंद करने के आदेश जारी

विपक्ष के विरोध प्रदर्शन के बीच स्टलाइट प्लांट को बंद करने के आदेश जारी किये जा चुके हैं. राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने वेदांता तूतीकोरिन संयंत्र को बंद करने के आदेश दे दिए हैं. ज्ञात हो कि तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 23 मई को ही अलग-अलग कानूनों के तहत बिजली कांटने और कंपनी के संयंत्र को तत्काल प्रभाव से बंद करने का आदेश दिया है.  हालांकि प्लांट में 27 मार्च 2018 से काम नहीं किया जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button