Uncategorized

झामुमो और कांग्रेस की कुछ चलेगी, या राज्यसभा की दोनों सीट ले उड़ेगी बीजेपी !

Ranchi : राज्यसभा चुनाव को लेकर सियासी बाजार गर्म है. राजनीति समीकरण के कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. लेकिन लाख टके का सवाल है कि क्या देश के कई राज्यों में हुए चुनाव में जो हश्र कांग्रेस और गैर बीजेपी पार्टियों का हुआ, वहीं हाल झारखंड के राज्यसभा चुनाव में दिख सकता है? या झारखंड के राज्यसभा चुनाव में विपक्षी पार्टी नया नजीर पेश करेगी. राजनीति में फैसले से पहले कुछ कहना जल्दबाजी मानी जाती है. ऐसे ही कुछ हो रहा है झारखंड में.

Advt

इसे भी पढ़ें –झारखंड हाईकोर्ट भवन निर्माण :  एल वन चुनी गयी कंपनी बढ़ा रही है 2900 फीसदी तक अपना रेट, 265 करोड़ में बनने वाला भवन बनेगा करीब 600 करोड़ की लागत से 

इसे भी पढ़ें –  अजब प्यार की गजब कहानी : पहली मुलाकात में प्यार, दूसरी में शादी, तीसरे में ब्लैकमेलिंग व बेटी का अपहरण और खूंटी पुलिस खामोश !

क्या संबित पात्रा हो सकते हैं झारखंड से नए राज्यसभा सांसद

बीजेपी पार्टी का बात हर प्लेटफॉर्म पर बेबाकी से रखने वाले संबित पात्रा का नाम बीजेपी की लिस्ट में सबसे आगे चल रहा है. इससे पहले धर्मेंद्र प्रधान भी इस रेस में थे. लेकिन बताया जा रहा है कि धर्मेंद्र प्रधान को मध्य प्रदेश से टिकट मिल सकता है. एमपी में बीजेपी के बहुमत को देखते हुए उनकी जीत भी सुनिश्चित मानी जा रही है. वहीं संबित पात्रा का जुड़ाव झारखंड से पहले से रहा है. उनकी स्कूलिंग बोकारो के चिन्मया स्कूल से हुई है. उनके झारखंड प्रेम और जीत की गारंटी उन्हें राज्यसभा का टिकट झारखंड से दिला सकती है.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह : बिना गोली चले इनामी समेत 15 बड़े नक्सलियों की गिरफ्तारी देश का पहला मामला

एक बाहर का और एक झारखंड का आदिवासी बन सकता है सांसद

बीजेपी के अंदरुनी सूत्रों की बात करें तो बीजेपी इस बार हर हाल में अपने दोनों उम्मीदवारों को जिताने की पूरी कोशिश कर रही है. बताया जा रहा है कि हर बार की तरह इस बार भी उम्मीदवार पैराशूट से ही झारखंड में उतरने वाला है. लेकिन दूसरा उम्मीदवार झारखंड के किसी बड़े आदिवासी नाम हो सकता है. ऐसा आने वाले आम चुनाव और विधानसभा चुनाव को देखते हुए किया जा रहा है. इससे संथाल में पार्टी की पकड़ और मजबूत हो सकती है.

आखिर किस बिसात पर बिछा है चुनावी समीकरण

चुनाव का समीकरण यह है कि जिस उम्मीदवार को 27 मत मिलेंगे, उसकी जीत सुनिश्चित है. बताते चलें कि सूबे में बीजेपी के 43 विधायक है. ऐसे में एक उम्मीदवार को जिताने में उन्हें कोई परेशानी नहीं होगी. दूसरी तरफ 16 विधायकों के मत फिर भी उनके पास सेफ रहेगी. दूसरे उम्मीदवार को जिताने के लिए बीजेपी को सिर्फ 11 मतों की जरूरत होगी. यह बताना मुश्किल नहीं है कि राज्यसभा में बीजेपी जैसी दिग्गज पार्टी को 11 मत जुटाने में ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना होगा. अगर ऐसा हुआ तो झामुमो और कांग्रेस का गठबंधन देखते रह जायेंगे और दोनों की दोनों सीट बीजेपी की झोली में जा गिरेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button