Uncategorized

जसवंत सिंह ने बाड़मेर से बतौर निर्दलीय प्रत्याशी पर्चा भरा

बाड़मेर: लोकसभा टिकट नहीं मिलने से आहत होकर बीजेपी से बगावत करने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में पर्चा दाखिल कर दिया हैं। इससे पहले सिंह अपने आवास से समर्थकों के काफिले के साथ रवाना होकर नामाकंन भरने के लिए पहुंचे। यहां से वे पहले आदर्श स्टेडियम में एक जनसभा को संबोधित करेंगे।

इससे पहले सिंह ने अपने पैतृक निवास जसोल में माता राणी भटियाणी मंदिर में दर्शन किए और फिर अपने पुत्र एमएलए मानवेंद्र सिंह के आवास पर पहुंचे। सूत्रों के अनुसार जसवंत सिंह ने बीजेपी नेता लालकृष्ण अडवाणाी से फोन पर बात की और कहा कि, मैं पार्टी को अलविदा कह रहा हूं आप मुझे आशीर्वाद दें।

गौरतलब है कि दार्जिलिंग संसदीय सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे 76 वर्षीय भाजपा नेता कांग्रेस से हाल में पार्टी में शामिल हुए कर्नल सोनाराम को बाड़मेर सीट का प्रत्याशी बनाए जाने से काफी आहत हुए हैं।

ram janam hospital
Catalyst IAS

1960 के दशक में जसवंत सिंह को पहली बार राजस्थान के कद्दावर नेता और उपराष्ट्रपति रहे दिवंगत भैरोसिंह शेखावत ने ही जनसंघ में शामिल किया था और उन्हें ही जसवंत का पॉलिटिकल मेंटर माना जाता है।

The Royal’s
Sanjeevani

1980 में राज्यसभा सदस्य बनने के बाद के आने वाले सालों में जसवंत सिंह ने सफलता पूर्वक अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्रित्व काल में दो बार वित्त मंत्री और एक बार एक्स्टरनल अफेयर मिनिस्ट्री का कार्यभार भी संभाला। राजस्थान के अजमेर में चर्चित मेया कॉलेज से पढ़ चुके जसवंत भारतीय सेना में एक अफसर के तौर पर भी काम कर चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button