Uncategorized

जब जीवनी प्रकाशित ही नहीं हुई, तो कॉपीराइट कैसे लागू हो सकता है: दिल्ली हाई कोर्ट

शहीद राइफलमैन जसवंत सिंह रावत की जीवनी पर बन रही फिल्म पर रोक लगाने की याचिका पर कोर्ट ने याचिकाकर्ता से पूछा

New Delhi: दिल्ली हाई कोर्ट ने एक मामले में कॉपीराइट का दावा करनेवाले से पूछा है कि जब जीवनी प्रकाशित ही नहीं हुई है, तो इस मामले में कॉपी राइट कैसे बनता है. दिल्ली हाई कोर्ट ने 1962 के भारत-चीन युद्ध में शहीद हुए एक सैनिक के परिजन से सवाल किया है कि किसी व्यक्ति, भले ही वह युद्ध का हीरो हो, की जीवन गाथा पर कॉपीराइट कैसे लागू हो सकता है जब वह प्रकाशित ही नहीं हुई हो. इस शहीद की जीवन गाथा के आधार पर एक फिल्म बनाई जा रही है.

‘‘प्रकाशित ही नहीं हुए काम पर कोई कॉपीराइट कैसे हो सकता है, चाहे वह किसी युद्ध के हीरो की जीवन गाथा ही क्यों न हो’’

Catalyst IAS
ram janam hospital

शहीद राइफलमैन जसवंत सिंह रावत, जिन्हें मरणोपरांत महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था. इस शहीद के परिजन उनके बारे में बनाई जा रही फिल्म के विरोध में हैं. उनकी दलील है कि फिल्म की कहानी कॉपीराइट और उनकी निजता का उल्लंघन है. मामले में कोर्ट ने कहा, ‘‘प्रकाशित ही नहीं हुए काम पर कोई कॉपीराइट कैसे हो सकता है, चाहे वह किसी युद्ध के हीरो की जीवन गाथा ही क्यों न हो.’’ बहरहाल,  कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 21 फरवरी की तारीख तय की है.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इसे भी पढ़ेंः जानिए वैलेंटाइन डे से पहले वायरल हो रहे वीडियो का सच

शहीद के भाई की दलील है कि परिजनों की सहमति नहीं ली गयी

याचिकाकर्ता विजय सिंह रावत, जो शहीद के भाई हैं, को अगली सुनवाई में बताना होगा कि उन्हें जीवन गाथा पर आधारित फिल्म नहीं बनाने की मांग करने का क्या हक है. विजय की दलील है कि न तो परिजनों की सहमति ली गयी, न ही उन्हें या केंद्र सरकार को फिल्म की पटकथा दिखायी गयी, जबकि सरकार ने पटकथा दिखाने को कहा था.

इसे भी पढ़ेंः जानें सोशल मीडिया पर सबके होंश उड़ाने वाली प्रिया प्रकाश के अनछुये पहलु

इसे भी पढ़ेंः अपनी कातिल निगाहों से लाखों को घायल करने वाली प्रिया प्रकाश पर FIR

फिल्म की शूटिंग रोकने की मांग की गयी थी

इससे पहले हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर कर मांग की गयी थी कि फिल्म की शूटिंग रोक दी जाए, क्योंकि जमानत पर रिहा किए गये बलात्कार के एक आरोपी को थलसेना के हीरो, जो 4 गढ़वाल राइफल्स में राइफलमैन के पद पर थे, की भूमिका में दिखाया जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button