Uncategorized

छोटानागपुर को ‘नागपुर’ की प्रयोगशाला बनाना चाहती है रघुवर सरकार : बंधु तिर्की

Ranchi : भाजपा द्वारा सोरेन परिवार पर हमला कोई नयी बात नहीं है. सरकार में बैठे दल को मौका मिले या न मिले, वह जेएमएम पर हमले करता रहता है. भाजपा की सोच और मकसद आदिवासियों, दलित और कमजोर  वर्ग के अधिकारों को समाप्त करना है, जिसमें रोड के रूप में झारखंड नामधारी दल हैं, सोरेन परिवार भी है. यह कहना है पूर्व मंत्री और झाविमो के महासचिव बंधु तिर्की का. उन्होंने कहा कि झारखंड के लोगों के जल, जंगल और जमीन के साथ-साथ आदिवासियों और दलितों के अधिकार पर भी राज्य और केंद्र सरकार द्वारा हमला तेज हो गया है. वहीं, राज्य सरकार द्वारा सीएनटी-एसपीटी एक्ट में संशोधन का प्रयास करना, धर्म स्वतंत्र विधेयक लाना, भूमि अधिग्रहण बिल लाना, लैंड बैंक में आदिवासियों की जमीन को शमिल करना जैसे काम किये गये हैं. अगर आदिवासियों के प्रति रघुवर सरकार की मंशा साफ होती, तो ये कार्य नहीं किये जाते.

इसे भी पढ़ें-स्वच्छता सर्वेक्षण की सिटीजन फीडबैक कैटेगरी में रांची को फर्स्ट पोजीशन, केंद्रीय मंत्री ने किया पुरस्कृत

धर्म बदलनेवाले आदिवासियों के आरक्षण का संवैधानिक अधिकार छीनना चाहती है रघुवर सरकार

बंधु तिर्की ने न्यूज विंग से बातचीत में कहा कि रघुवर सरकार छोटानागपुर को नागपुर की प्रयोगशाला बनाना चाहती है. रघुवर सरकार धर्म परिवर्तन कर लेनेवाले आदिवासियों के आरक्षण जैसे संवैधानिक अधिकार को छीनने की इच्छा रख रही है. झारखंड में किसी तरह के प्रयास से पहले रघुवर जी नॉर्थ-ईस्ट राज्य नगालैंड, मेघालय, मिजोरम जाकर वहां की भाजपा समर्थित सरकारों को यह सुझाव देते कि आदिवासी का धर्म परिवर्तन हो गया हो, तो वे आदिवासी नहीं रहेंगे और उनका संवैधानिक अधिकार उनका आरक्षण छीन लिया जायेगा. यह प्रयोग पहले छोटानागपुर में नहीं, आरएसएस को नॉर्थ-ईस्ट के इन राज्यों में करना चाहिए.

MDLM
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें- प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार के खिलाफ पार्टी में कोई नाराजगी नहीं, राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ेंगे चुनाव : उमंग सिंघार 

सरकार आदिवासियों की जमीन लूटकर कॉरपोरेट को देना चहती है

बंधु ने कहा कि रघुवर सरकार की मूल मंशा जल, जंगल, जमीन को कॉरपोरेट घरानों को देने की है. वहीं, राज्य में भाजपा को लगने लगा है कि पार्टी का बोरिया-बिस्तर बंधनेवाला है. इस डर और घबरहाट में आरक्षण जैसे मुद्दे को उछालकर भाजपा समाज में टकराव पैदा करना चाह रही है, जिसे झारखंडी जनमानस किसी भी कीमत पर पूरा नहीं होने देगा. वहीं, रघुवर दास द्वारा सीएनटी-एसपीटी एक्ट उल्लंघन मामले को लेकर सोरेन परिवार पर लगातार हमला किया जा रहा है, यह हमला सोरेन परिवार पर नहीं आदिवासियों पर है.

इसे भी पढ़ें- 16 अधिकारियों का तबादला, अनिश गुप्ता बने रांची के एसएसपी, कुलदीप द्विवेदी गए चाईबासा

रघुवर सरकार सीएनटी-एसपीटी एक्ट का उल्लंघन करनेवालों पर एक्शन क्यों नहीं लेती

बंधु ने कहा कि अगर सीएम सचमुच आदिवासियों के हितैषी हैं, उनका भला चाहते हैं, तो झारखंड में जिन्होंने भी सीएनटी-एसपीटी एक्ट का उल्लंघन करके आदिवासियों की एक इंच भी जमीन हथिया ली है, उनपर एक्शन ले, चाहे वह बंधु तिर्की हो या कोई और, कोई नहीं बचना चाहिए. राज्य और केंद्र में भाजपा की सरकार है, कौन रोक रहा है सीएम को. एक्शन लेने की जगह बयानबाजी कर क्या हासिल करना चाहते हैं सीएम, यह राज्य की जनता को बताना चहिए.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button