Uncategorized

छत्तीसगढ़ में मुठभेड़ में मारे गये दो नक्सली, बीते तीन दिनों में 15 माओवादी गिरफ्तार

Raipur : छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक महिला नक्सली समेत दो नक्सली मारे गये. बीजापुर जिले के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि जिले के गंगालूर थाना क्षेत्र के अंतर्गत मुडुवांडी और कवाड़गांव के जंगल में पुलिस के साथ मुठभेड में एक महिला नक्सली समेत दो नक्सली मारे गये.

देर तक गोलीबारी के बाद नक्सली हुये फरार

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि गंगालूर थाना क्षेत्र में सीआरपीएफ की कोबरा बटालियन, जिला पुलिस बल और डीआरजी के संयुक्त दल को गश्त के लिए रवाना किया गया. दल जब मुडुवांडी और कवाड़गांव के जंगल में था तब नक्सलियों ने पुलिस दल पर गोलीबारी शुरू कर दी. इसके बाद पुलिस दल ने भी जवाबी कार्रवाई की. अधिकारियों ने बताया कि कुछ देर तक दोनों ओर से गोलीबारी के बाद नक्सली फरार हो गए. बाद में जब पुलिस दल ने घटनास्थल की तलाशी ली तब वहां दो वर्दीधारी नक्सलियों का शव, एक 303 रायफल, 12 बोर की बंदूक और एक देशी पिस्तौल बरामद किया गया. उन्होंने बताया कि नक्सलियों के खिलाफ अभियान जारी है. इस संबंध में अभी अन्य जानकारी ली जा रही है.

इसे भी पढ़ें- चारा घोटाला मामलाः सीएस राजबाला की बढ़ी मुश्किलें, सरकार ने जारी किया नोटिस, 15 दिन में मांगा जवाब

तीन जनवरी को हुयी थी सात नक्सलियों की गिरफ्तारी

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले से पुलिस ने तीन जनवरी को सात नक्सलियों को गिरफ्तार किया था. उसके बाद सुकमा जिले के पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा ने बताया था कि जिले के भेजी थाना क्षेत्र में पुलिस ने सात नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया था. मीणा ने बताया कि भेजी थाना क्षेत्र में नक्सली गतिविधि की सूचना के बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कोबरा बटालियन, जिला बल, एसटीएफ और डीआरजी के संयुक्त दल को गश्त के लिए रवाना किया गया था. दल जब क्षेत्र में था तब उन्होंने घेराबंदी कर सात नक्सलियों कुंजाम जोगा (30 वर्ष), मुचाकी हड़मा (20 वर्ष), माड़वी देवा (25 वर्ष), मुचाकी पायका (27 वर्ष), कुहरामी सुक्का (21 वर्ष), मड़कम कोसा (45 वर्ष) और मड़कम हुंगा को गिरफ्तार किया गया था.

आदिवासी किसान मजदूर संगठन के सदस्य हैं गिरफ्तार सभी सात नक्सली

पुलिस अधीक्षक ने बताया था कि गिरफ्तार नक्सली दंडकारण्य आदिवासी किसान मजदूर संगठन के सदस्य हैं. उन्होंने बताया था कि नक्सलियों के खिलाफ 30 जुलाई वर्ष 2016 को गच्चनपल्ली गांव के जंगल में पुलिस दल पर गोलीबारी करने और पिछले महीने की 24 तारीख को चिखलगुड़ा गांव के करीब निजी वाहनों में आग लगाने का आरोप है.

इसे भी पढ़ें- लालू यादव के वकील ने सेहत का हवाला देकर कम-से-कम सजा के लिए दाखिल की अर्जी

दो जनवरी को हुये थे आठ नक्सली गिरफ्तार, हथियार भी बरामद

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले में पुलिस ने दो जनवरी को आठ नक्सलियों को गिरफ्तार किया था और साथ ही हथियार भी बरामद किया था. नारायणपुर जिले के पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने बताया था कि जिले के नारायणपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत ताहकाडोड गांव की पहाड़ी के करीब पुलिस ने आठ नक्सलियों मंगू मंडावी, लखमा उइके, सुक्कू मंडावी, पंडरू मंडावी, चमरू हिचामी, राजू नुरेटी, सोनारू वडडे और मूरा हिड़को को गिरफ्तार किया था.

छह भरमार बंदूक, एक बंडल बिजली वायर, दो छूरी समेत अन्य सामान बरामद

सिंह ने बताया था कि जिले के सोनपुर, ताहकाडोड और ब्रेहबेड़ा के जंगल में नक्सली उपस्थिति की सूचना मिलने पर भारत तिब्बत सीमा पुलिस और डीआरजी के दल को गश्त के लिए रवाना किया गया था. उन्होंने बताया था कि सोमवार को पुलिस दल जब ताहकाडोड पहाड़ी के करीब था तब कुछ संदिग्ध नक्सली दिखायी दिये थे. पुलिस दल को देखकर वह वहां से भागने लगे. लेकिन पुलिस दल ने घेराबंदी कर आठ नक्सलियों को गिरफ्तार कर लिया. इस मामले में पुलिस अधीक्षक ने बताया था कि गिरफ्तार नक्सलियों ने पूछताछ में बताया कि वह स्थानीय नक्सली कमांडर जयलाल के आदेश पर पुलिस दल को नुकसान पहुंचाने के लिए एक स्थान पर एकत्र हुए थे. अधिकारी ने यह भी बताया था कि पुलिस दल ने नक्सलियों से छह भरमार बंदूक, एक बंडल बिजली वायर, दो छूरी समेत अन्य सामान बरामद किया है।

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button