Uncategorized

छत्तीसगढ़ में आलू की कालाबाजारी, छापामार कार्रवाई होगी

रायपुर : छत्तीसगढ़ में आलू इन दिनों पूरी तरह से मुनाफाखोरों के हाथों में चला गया है। आलू की कालाबाजारी रोकने के लिए अब जिला प्रशासन छापामार कार्रवाई करने की तैयारी में है। रायपुर के एडीएम संजय अग्रवाल ने कहा कि आलू की जमाखोरी कर दाम बढ़ाने वाले कारोबारियों पर कार्रवाई होगी। प्रशासन के पास भी कुछ सूचनाएं आई हैं। इसके आधार पर गोदामों में छापा मार कार्रवाई की जाएगी।

राजधानी के कारोबारी सूत्रों का कहना है कि मुनाफाखोरों द्वारा मिलकर आलू के भाव तय किए जा रहे हैं तथा इनकी सप्लाई भी उनके कहने के अनुसार ही होती है। इनके अलावा बहुत से कारोबारियों के पास अभी भी माल न आने के कारण आलू की किल्लत बनी हुई है। ऐसी ही हालत रही तो आने वाले दिनों में आलू लोगों को और रुलाएगा।

आलू-प्याज के थोक कारोबारी जितेन्द्र दोषी बताते हैं कि आलू की आवक इन दिनों काफी कमजोर है। रोजाना करीब पांच या छह गाड़ियां ही आ पा रही हैं। इसके चलते ही आलू के भाव बढ़े हुए हैं। आवक सुधरने पर कीमत में भी सुधार आ जाएगा। बंगाल से कम आवक के साथ ही उत्तर प्रदेश से भी इन दिनों आलू की आवक हो रही है लेकिन यह भी कम मात्रा में तथा अधिक कीमत में हो रही है। आलू की कीमत में तेजी का इसे भी एक कारण माना जा सकता है।

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

राजधानी के कारोबारियों का कहना है कि आलू की कमजोर आवक को इन दिनों मुनाफाखोरों ने फायदे का सौदा बना लिया है। इसके थोक व चिल्लर भाव भी मुनाफाखोर ही तय करते हैं। शुक्रवार को आलू थोक में गिरने के बाद भी चिल्लर में 32 से 40 रुपये किलो तक बिका। आलू की जमाखोरी भी इसलिए आसानी से हो पा रही है, क्योंकि यह जल्दी खराब होने वाली सब्जी नहीं है।
(आईएएनएस)|

The Royal’s
MDLM
Sanjeevani

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button