Uncategorized

खुशबू के हत्‍यारे विजेंद्र को फांसी की सजा

Ad
advt
रांची: खुशबू के हत्‍यारे विजेंद्र उर्फ गोलू को फांसी की सजा सुना दी गयी है. जमशेदपुर निवासी विजेंद्र ने एक साल पहले 27 अप्रैल 2011 को रांची स्थित संत जेवियर्स कॉलेज में खुशबू शाहदेव का गला धड़ से अलग कर दिया था. इस नृशंस हत्‍याकांड के फैसले को लेकर जानकार काफी उत्‍सुक थे.

 
26 अप्रैल 2012 को न्यायायुक्त एसएच काजमी ने इसे जघन्य अपराध (ब्रूटल मर्डर) मानते हुए कहा कि यह प्रमाणित व स्थापित (प्रूव्ड एंड इस्टैबलिस्ड) केस है. लिहाजा अदालत साक्ष्यों के आधार पर आरोपी विजेंद्र कुमार उर्फ गोलू को दोषी करार देती है. 27 अप्रैल 2011 को सेंट जेवियर कॉलेज परिसर में खुशबू की उस समय हत्या कर दी गयी थी जब वह एक प्राईवेट परीक्षार्थी के रूप में इंटर का इम्तेहान देने गई थी.
विजेन्द्र ने कॉलेज के बरामदे में खुखरी से खुशबू पर वार किया था. खुशबू का सिर धड़ से अलग हो गया था.
 
राजधानी की बहुचर्चित खुशबू हत्याकांड की सुनवाई के दौरान खुशबू शाहदेव के पिता लाल महेश्वर नाथ शाहदेव भी मौजूद थे. महेश्‍वर ने अपनी बेटी के हत्‍यारे को फांसी की सजा सुनाए जाने पर संतोष व्‍यक्‍त किया और जांच में शामिल तंत्र के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया. फैसला सुनाये जाने के वक्त आरोपी गोलू को भी कड़ी सुरक्षा में अदालत में लाया गया था.
 
फांसी की सजा सुनाये जाने के तत्‍काल बाद फोटोज‍नलिस्‍ट सोमनाथ सेन ने विजेंद्र को अपने कैमरे में कैद किया. देखें फोटो ऐल्‍बम…

advt

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: