Uncategorized

एसीबी टीम के खिलाफ बरकट्ठा थाना में शिकायत दर्ज, सिपाही ने सीओ के जेब में रखा जबरन पैसा

बरकट्ठा सीओ मनोज तिवारी को कथित तौर पर घूस लेते पकड़े जाने के खिलाफ पदाधिकारियों ने लिया तीन दिन के अवकाश पर जाने का फैसला

NEWS WING

Hazaribag, 14 November: एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) की हजारीबाग टीम के द्वारा बरकट्ठा के अंचलाधिकारी (सीओ) को कथित रुप से रिश्वत लेते गिरफ्तार किए जाने के मामले में नया मोड़ आ गया है. सीओ मनोज कुमार तिवारी के दैनिक भोगी चालक राजेश कुमार सिंह समेत अन्य ने बरकट्ठा थाना में एसीबी अफसरों के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी है. जिसमें थाना प्रभारी से प्राथमिकी दर्ज करने का आग्रह किया गया है. इसके साथ ही बरकट्ठा सीओ की गिरफ्तारी को लेकर झारखण्ड प्रशासनिक सेवा संघ के हजारीबाग शाखा के पदाधिकारियों ने आपात बैठक कर घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है. साथ ही फैसला लिया है कि हजारीबाग जिला में पदस्थापित राज्य सेवा संवर्ग के सभी पदाधिकारी तीन दिन के सामूहिक अवकाश पर रहेंगे. संघ ने पुरे मामले की न्यायिक जांच की मांग की है.

इसे भी पढ़ेंः बरकट्ठा अंचलाधिकारी को पांच हजार रिश्वत लेते ACB ने रंगे हाथ पकड़ा, क्या कहा था एसीबी ने

निगरानी के सिपाही ने सीओ के पैंट के पिछे के जेब में जबरन रखा पैसा

सीओ मनोज कुमार तिवारी के चालक और अन्य छह लोगों ने बरकट्ठा थाना में एसीबी की टीम के खिलाफ आवेदन दिया है. जिसमें सभी लोगों ने घटना के वक्त घटनास्थल पर मौजूद रहने की बात कही है. आवेदन में कहा गया है कि पहले मोटरसाइकिल पर सवार होकर दो लोग सीओ के आवास के पास आकर खड़े हो गए. और मोबाइल से फोन करके किसी को सूचना दिया कि सीओ साहेब क्वार्टर में हैं. इसी बीच अचानत तीन गाड़ियां आवास के निकट आ गयी. जिसमें सवार पुलिसकर्मी उतर तेजी से क्वार्टर के भीतर चले गए. हम लोग (आवेदन करने वाले छह लोग) भी अंदर गए. देखा कि सीओ खाना खा रहे थे. पुलिस कर्मियों ने उन्हें खाना खाने से रोका और बताया कि वे सभी एसीबी से हैं. फिर सीओ के साथ मारपीट शुरु कर दी. जिससे उनका चश्मा टूट गया और आंख के नीचे कट गया. खून गिरने लगा. तभी एक सिपाही सीओ के पैंट के पिछली जेब में रुपया डालने लगा. सीओ के द्वारा इसका विरोध किया जा रहा था. हमलोगों (आवेदन करने वाले छह लोग) ने भी इसका विरोध किया. इस पर एसीबी की टीम के पदाधिकारी व जवानों ने गाली-गलौज की और जेल भेजने की धमकी दी. साथ ही संतोष जोगी नामक व्यक्ति को गाड़ी में बैठा लिया. सभी छह लोगों ने कहा है कि उन लोगों के समक्ष एसीबी टीम ने न तो सीओ का हाथ धुलवाया और न ही राशि जब्त की गयी. 

इसे भी पढ़ेंः पाकुड़ बीईईओ को अपने ही शिक्षक से घूस लेना पड़ा मंहगा, चढ़ा एसीबी के हत्थे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button