Uncategorized

उड़ीसा में उतरे थे एलियन, ताम्रपत्र में मिली चर्चा

कोलकाता: एलियन यानी परग्रही जीवों को लेकर हमारी उत्‍सुकता कम नहीं रही है. दूसरे देशों की तरह भारत के भी कई इलाकों में दंतकथाओं की तरह ऐसे वाकये याद किये जाते हैं. अब कहा जा रहा है कि आजादी से पहले ओडिशा में एलियन को देखा गया था और बाकायदा इसका विवरण पारंपरिक ताम्रपत्र पर खुदाई कर दर्ज करवाया गया।

1947 में आजादी से कुछ ही महीने पहले ओडिशा के नया जिले में एक उड़ने वाली अज्ञात वस्तु उतरी थी। स्थानीय कलाकार पचानन मोहरना ने इस घटना को ताम्रपत्र पर दर्ज किया था।

एलियन्‍स की इसी तरह की पुरानी कहानियों को दर्ज करने वाले ऎसे पत्रों को अब ‘दी ऑब्लिट्रेरी जर्नल’ में कॉमिक्स और दृष्टांतों के साथ प्रकाशित किया गया है। पुरी में कार्यशाला चलाने वाले सम्मानित “पट्टचित्र” कलाकार पचानन ने एलियन व उनके विमान के रेखाचित्र बनाए थे।

ये एलियन 31 मई 1947 को पहाड़ी इलाके नयागढ़ में उतरे थे। इससे एक महीने बाद ही न्यू मेक्सिको के पास रोसवेल में एक संदिग्ध दुर्घटना हुई थी। अमरीकी वायुसेना ने दुर्घटनास्थल पर एक उड़नतश्तरी को बरामद करने का दावा किया।

Catalyst IAS
SIP abacus

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button