Uncategorized

इंजीनियर साहब! बताइये शिवलिंग तोड़ रहा कांके डैम साइड की पक्की सड़क या आपके ‘पाप’ से फट रही है धरती

Saurav Singh

Ranchi : घटना पांच दिन पहले की है, यानी 17 जून की. शहर के कांके डैम साइड की एक नयी-नवेली पक्की सड़क के बीचोंबीच दरार पड़ जाती है. या यूं कहें कि एकदम बीच से फट जाती है. इतना ही नहीं, सड़क का प्रभावित हिस्सा जमीन छोड़कर दो फीट तक ऊपर उठ जाता है. स्थानीय लोगों का जमावड़ा लगने लगता है. कुछ यह सब देखकर सहम जाते हैं, तो कुछ कहने लगते हैं कि जमीन के अंदर से शिवलिंग निकला है, जिसके चलते सड़क ऊपर उठ गयी है. आस्था में तल्लीन इन स्थानीय लोगों की यह थ्योरी इतना जोर पकड़ लेती है कि लोग इस सड़क को चारों ओर से बांस से घेर देते हैं. पूजा-अर्चना शुरू कर देते हैं. प्रभावित सड़क पर सिंदूर, आम, केला, फूल-पत्ती, चावल के दाने अर्पित किये जाने लगते हैं. इतना ही नहीं, घटना के इन पांच दिनों के अंदर इस थ्योरी ने इतनी रफ्तार पकड़ लेती है कि स्थानीय लोग इसी जगह पर, यानी इस टूटी हुई पूरी सड़क पर मंदिर बनाने की मांग करने लग जाते हैं. सड़क पर दानपेटी भी लग जाती है. चढ़ावे और प्रसाद की दुकानदारी भी शुरू हो जाती है. यह सब इन्हीं पांच दिनों का डेवलपमेंट है. अखबारों में भी इसकी खबर छपी. एक तरफ आस्था की बात की जा रही है, तो दूसरी तरफ पर्यावरणविद कह रहे हैं कि सड़क के नीचे जमीन से कलवर्ट हट जाने और सड़क सही से नहीं बनने के कारण इसमें दरार पड़ी और यह ऊपर उठ गयी. पर्यावरणविद भू-धंसान को भी इसकी वजह बता रहे हैं. इतना सबकुछ हो गया इन पांच दिनों में, लेकिन संबंधित विभाग अब भी ‘मौनासन’ में लीन है. कोई जवाब ही नहीं है विभाग के अधिकारियों की जुबां पर. इससे सवाल उठता है कि क्या संबंधित विभाग के अधिकारी भी शिवलिंग निकलने के कारण इस सड़क के ऊपर उठने और उसमें दरार पड़नेवाली थ्योरी का समर्थन कर रहे हैं, इसलिए वे खामोश हैं या फिर मामला ‘कुछ और’ ही है, जो उन्हें मौनासन पर रहने के लिए मजबूर कर रहा है.

इसे भी पढ़ें- देशद्रोह के आरोप में जेल में बंद रामो बिरुवा की मौत

Catalyst IAS
ram janam hospital

सड़क बनानेवाला पीएचईडी विभाग है अनजान

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

यह सड़क पीएचईडी विभाग ने बनायी है. विभाग के अधिकारी से जब सड़क पर दरार पड़ने और इसके जमीन से दो फीट तक ऊपर उठ जाने के बाबत गुरुवार को पूछा गया, तो उन्होंने एक तरह से अपने हाथ ही ऊपर उठा दिये. विभाग के योजना मॉनिटरिंग एवं आयोग के मुख्य अभियंता अशोक कुमार ने कहा कि इस मामले की उन्हें कोई जानकारी ही नहीं है, अगर ऐसी कोई बात है भी, तो वह पूरी घटना के बारे में पता लगायेंगे.

इसे भी पढ़ें- फिर विवादों में स्वास्थ्य मंत्री रामचन्द्र चन्द्रवंशी, दलित की जमीन हड़पने का लगा आरोप

 

इधर, चरम पर है आस्था, दूर-दूर से ‘शिवलिंग’ देखने पहुंच रहे हैं लोग

कांके डैम साइड सड़क पर आयी दरार

जैसे-जैसे कांके डैम साइड की इस सड़क के नीचे जमीन से शिवलिंग निकलने की बातें लोगों के बीच फैलती जा रही हैं, वैसे हर दिन यहां शिवलिंग को देखने के लिए दूर-दराज से लोग पहुंच रहे हैं. इस ‘शिवलिंग’ की देखरेख मल्लू पाहन और गालो देवी कर रहे हैं.

सुबह में ऊपर उठ जाती है सड़क, शाम होते ही वापस आ जाती है अपनी जगह पर

कांके डैम साइड सड़क उठी ऊपर

स्थानीय लोगों ने बताया कि यह सड़क सुबह में अपने आप ऊपर उठ जाती है और शाम होते-होते धीरे-धीरे अपने स्थान पर आ जाती है .लोग इसे भगवान शिव का चमत्कार के रूप में देख रहे हैं. मल्लू पाहन बताते हैं गुमला, पिठोरिया, रातू, टाटीसिलवे, बेड़ो समेत अन्य जगहों से अभी तक लगभग 10 हजार से ज्यादा लोग इस ‘शिवलिंग’ को देखने आ चुके हैं.

इसे भी पढ़ें- भोजन का अधिकार अभियान ने झारखंड में भूख से हुई मौतों पर जताई चिंता, जन वितरण प्रणाली में सुधार की अपील

एक भक्त को सड़क के बीच में दिख रहे शंकर भगवान, साथ में गणेश भगवान भी दे रहे दर्शन

टाटीसिलवे से आये मोहन मुंडा कहते हैं कि जो लोग आस्था से इस शिवलिंग को देखने आये हैं, उनको शिवलिंग दिख रहा है, जबकि जो आस्था से नहीं आये हैं, उनको शिवलिंग नहीं दिख रहा है. वहीं, नगड़ी से आयीं गुड़िया देवी का कहना है कि सड़क के बीच में शंकर भगवान दिख रहे हैं और साथ में गणेश भगवान भी हैं.

यूं चरम पर है ‘आस्था’

लग गयी है प्रसाद की दुकान

आस्था और धर्म कई लोगों के लिए कमाई का जरिया भी बन जाते हैं. यहां इस मामले में भी ऐसा ही होने लगा है. शिवलिंग निकलने और पूजा-अर्चना शुरू हो जाने की खबर फैलने के बाद लोगों का यहां आना देखकर कुछ स्थानीय लोगों ने यहां पर दुकानें सजा ली हैं. इन दुकानों पर नारियल, धूप, अगरबत्ती, बेलपत्र आदि पूजा सामग्री की बेची जा रही है. इतना ही नहीं, लाउडस्पीकर पर भगवान शिव का भजन भी बज रहा है.

क्या कह रही आस्था और क्या है विज्ञान की राय?

‘‘यहां भगवान शिव ने दर्शन दिये हैं और हमलोग के गांववालों के लिए यहां दर्शन दिये हैं. हमलोगों के लिए यह खुशी की बात है. हमलोग यहां मिलकर मंदिर बनवायेंगे और यहां भगवान शिव की पूजा करेंगे.’’
-मल्लू पाहन, संरक्षक

‘‘भोला बाबा ने हमारे गांव में हमलोगों को दर्शन दिये हैं और हमलोग यहां पर मंदिर किसी भी हालत में बनायेंगे. इसके लिए सरकार से मदद मांगने जायेंगे.’’
-गालो देवी, पुजारिन

‘‘भू धंसान होने के कारण रोड में दरार आ गयी होगी, क्योंकि ज्यादा गर्मी पड़ रही है. जमीन के नीचे से कलवर्ट हट जाने के कारण और रोड सही से नहीं बनने के कारण इस तरह की घटना हुई है. अगर शिवलिंग निकलने की बात है, तो इसकी जांच करने के बाद ही कुछ बता सकते हैं.’’
-नीतीश प्रियदर्शी, पर्यावरणविद

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button