Uncategorized

अलवर हत्या मामले पर राजनाथ से बयान की विपक्ष की मांग

नई दिल्ली: राजस्थान के अलवर में गौरक्षा समिति के सदस्यों द्वारा बीते सप्ताह एक मुस्लिम व्यक्ति की हत्या किए जाने के मुद्दे पर शुक्रवार को राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ। नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने इस मुद्दे पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह से बयान देने की मांग की। आजाद ने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि सरकार ‘राज्यसभा को कमजोर कर रही है।’

Advt

केंद्रीय अल्पसंख्यक मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने गुरुवार को अपने बयान में इस बात से ही इंकार कर दिया था कि इस तरह की कोई ‘घटना’ घटी थी। नकवी के बयान का जिक्र करते हुए आजाद ने कहा, “मंत्री ने सदन को गुमराह किया है।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार इस मामले में संसद के दोनों सदनों में अलग-अलग बयान दे रही है।

उन्होंने कहा, “गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को लोकसभा में स्वीकार किया था कि यह घटना हुई है, जबकि मंत्री (नकवी) ने कहा कि ऐसा नहीं हुआ।”

आजाद ने इन स्वयंभू गौरक्षकों से निपटने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा पर भी संदेह जताया।

आजाद ने कहा, “उन्होंने (मोदी) बहुत कड़े शब्दों में उनकी निंदा की, लेकिन ऐसा लगता है कि भारतीय जनता पार्टी ने उनसे (गौरक्षक) कह दिया है कि वे जो चाहे करें।”

आजाद का अन्य विपक्षी सदस्यों ने भी समर्थन किया। मामले को लेकर दूसरे दिन सदस्य सभापति के आसन के समक्ष इकट्ठा हो गए और हंगामा करने लगे। सदस्यों ने मंत्री से मांग की कि वह इस पर माफी मांगें।

इस पर संसदीय कार्य मंत्री नकवी ने कहा कि गृहमंत्री इस मामले पर सदन में सोमवार को बयान देंगे।

इससे पहले शुक्रवार को अलवर में कथित तौर पर गौरक्षा समिति के सदस्यों द्वारा एक व्यक्ति की हत्या पर नकवी ने कहा कि गौरक्षा समिति के सदस्यों को धार्मिक दृष्टिकोण से नहीं देखा जाना चाहिए, क्योंकि ‘अपराधी सिर्फ अपराधी होते हैं।’

नकवी ने सदन से कहा, “एक अपराधी, हत्यारा या गुंडे को हिंदू या मुस्लिम के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। अपराधी सिर्फ अपराधी है।”

आजाद ने कहा, “थप्पड़ मारने के लिए एक व्यक्ति को 14 दिन की रिमांड में भेज दिया जाता है। लेकिन राजस्थान के मामले में आरोपी को एक दिन बाद मुक्त कर दिया गया। सरकार को इस सदन को गंभीरता से लेना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “यह राज्यसभा की स्थिति को कमजोर करने जैसा है। अलवर मामले को गुरुवार को उठाया गया था, गृहमंत्री को आज (शुक्रवार) सदन में आना चाहिए।”

अलवर के बेहरोर इलाके में कथित तौर पर स्वंयभू गोरक्षा समिति के लोगों ने शनिवार को गोशाला चलाने वाले पहलू खान पर हमला कर दिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

हरियाणा निवासी पहलू खान दो गायों और दो बछड़ों के साथ एक ट्रक से यात्रा कर रहे थे। हमलावरों ने कथित तौर पर खान पर गाय की तस्करी का आरोप लगाया। हालांकि उनके परिवार का कहना है कि वह अपने दुग्ध व्यवसाय के लिए जानवरों को ला रहे थे।

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button