Uncategorized

अमित शाह के सामने कार्यकर्ताओं ने जाहिर की नाराजगी, कहा पार्टी में नहीं मिलती तरजीह

News Wing
Ranchi, 15 September : भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की बैठक में पार्टी के कार्यकर्ताओं ने खुलकर कहा कि पार्टी में उन्हें तरजीह नहीं दी जाती. पार्टी में कोई अहमियत नहीं दिये जाने की वजह से वे खुद को अपमानित महसूस करते है. बिना कार्यकर्ताओं को तवज्जो दिये पार्टी कैसे आगे बढ सकती है.

अपने तीन-दिवसीय प्रवास के दौरान आज रांची पहुंचते ही अमित शाह ने लगातार बैठकें करनी शुरू कर दी. पार्टी मुख्यालय में सबसे पहले राष्ट्रीय पदाधिकारियों, कोर ग्रुप के सदस्यों, प्रदेश पदाधिकारियों, प्रदेश मोर्चा अध्यक्षों एवं महामंत्रियों, जिला संगठन प्रभारियों, प्रदेश प्रकोष्ठ संयोजकों, जिलाध्यक्ष एवं महामंत्रियों के साथ बैठक की.

यह भी पढ़ें : अमित शाह के शाही स्वागत पर जनता का पैसा लुटा रही सरकारः झामुमो

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

कार्यकर्ताओं ने जाहिर की नाराजगी
बैठक में पार्टी के कार्यकर्ताओं ने खुलकर अपनी बातों को रखा. कई ने तो कहा कि ना ही उन्हें पार्टी के बड़े नेता पूछते हैं और ना ही अधिकारी उन्हें वैल्यू देते हैं. ऐसे में पार्टी का काम प्रभावित हो रहा है. कई कार्यकर्ताओं ने खुलकर अपनी नाराजगी और व्यथा से पार्टी अध्यक्ष को अवगत कराया.

The Royal’s
MDLM
Sanjeevani

यह भी पढ़ें : ऐशो आराम में डूबे शासकों का अंत हर दौर में हुआ है, झारखंडी संदर्भ भी यह आकार ले रहा

स्थानीय नीति की खामियों की ओर अमित शाह का ध्यान दिलाया
प्रदेश की स्थानीय नीति को लेकर हो रही दिक्कतों को भी अमित शाह के सामने रखा गया. 13 अधिसूचित जिलों में बहाली को लेकर जो विसंगतियां हैं, उनको दुरूस्त करने की मांग की गयी. राज्य में विस्थापन की समस्या के अलावा जल और बिजली संकट से भी अमित शाह को अवगत कराया गया.

यह भी पढ़ें : यह झारखंड की राजधानी रांची है ? या बीजेपी की पोस्टर और बैरियर वाली कोई बस्ती

धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाईन शुरू करने की मांग उठी
कार्यकर्ताओं ने धनबाद-चंद्रपुरा रेल लाइन को फिर से जल्द शुरू करने की मांग भी अमित शाह से की. बैठक में कहा गया कि रेल लाईन बंद हो जाने से लाखों का रोजगार छिन गया है. वहां पार्टी के प्रति लोगों में काफी नाराजगी है. साथ ही झरिया के आरपीएस महाविद्यालय को बंद करने का भी मामला उठाया गया. कहा गया कि सुरक्षा के नाम पर महाविद्यालय को बंद तो कर दिया गया लेकिन कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की गयी है. इससे लोगों के साथ-साथ कार्यकर्ताओं में भी नाराजगी है. बच्चों के भविष्य पर सवालिया निशान लगने लगे हैं.

पार्टी मुख्यालय में अधिकृत व्यक्ति को ही जाने की अनुमति
पार्टी मुख्यालय में सिर्फ अधिकृत व्यक्ति को ही जाने की अनुमति है. किसी भी सूरत में किसी को भी अंदर जाने की इजाजत नहीं है. सिर्फ बैठक के लिए अधिकृत कार्यकर्ताओं को ही जाने की इजाजत दी गयी है. चारो फ्लोर पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम हैं. जिला पुलिस बल, स्पेशल ब्रांच, सीआरपीएफ और एनएसजी के जवान पूरी तरह से मुस्तैद हैं. जिस फ्लोर पर बैठक है, सिर्फ उसी फ्लोर पर जाने की इजाजत दी गयी है. इसके लिए बाकायदा पास जारी किया गया है. 

कार्यकर्ता सरकार के विकास कार्यों की करें मार्केटिंग
कार्यकर्ताओं, मोर्चा और विभिन्न प्रकोष्ठों के पदाधिकारियों की बैठक में अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को अभी से ही चुनाव में जुट जाने की अपील की. उन्होंने हर बूथ पर 10 यूथ को जोड़ने का निर्देश दिया. इसकी जानकारी देते हुए पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष हेमलाल मुर्मू ने कहा कि अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को चुनाव की तैयारी करने का निर्देश दिया है. और कहा कि हर राज्य में 28,400 बूथ हैं. हर बूथ पर 10 यूथ को जोड़ने का लक्ष्य दिया.

साथ ही प्रदेश में 30 लाख नये सदस्य बनाने की भी जिम्मेदारी दी गयी. अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को राज्य से बूथ तक की जिम्मेदारी भी दी है. अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को सरकार के द्वारा किये जा रहे विकास कार्यों की मार्केटिंग करने का टास्क सौंपा. 

बैठक में कार्यकर्ताओं ने समस्याओं की लगायी झड़ी
अमित शाह की बैठक में 50 से ज्यादा कार्यकर्ताओं ने अपनी-अपनी समस्यायें रखी. बैठक तो तीन दिन तक चलेगी, लेकिन पहली ही बैठक में  कार्यकर्ताओं के द्वारा समस्याओं की झड़ी लगाना कई चर्चाओं को जन्म देता है. कार्यकर्ता खडे होकर बारी-बारी से अपनी समस्या से अमित शाह को अवगत करा रहे थे. जो अपनी समस्या नहीं बता पाये उन्होंने कागज पर लिखकर अपनी बात बताने की कोशिश की. 

गंभीर होकर निकले स्वास्थ्य मंत्री, मीडिया के सवालों से बचते नजर आये
अमित शाह की बैठक के बाद बाहर निकले राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी काफी गंभीर दिखे. मीडिया के सवालों पर बस इतना कहा कि उनके विभाग को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है और किसी तरह की कोई बात भी नहीं हुई है. वहीं गोड्डा के युवा विधायक अमित मंडल ने कहा कि इलाके के विधायक और सांसदों ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के सामने धनबाद-चंद्रपुरा रेलवे लाइन बंद होने के कारण हो रही परेशानियों को रखा. राज्य की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था से भी पार्टी अध्यक्ष को कार्यकर्ताओ ने अवगत कराया. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button